REWA : पटवारी पर SDM मेहरबान , वेयरहाउस में रखी गई जब्त धान

रीवा । कलेक्टर इलैयाराजा टी जहां लगातार त्योंथर में पकड़ी गई यूपी की 500 क्विंटल धान पर बड़ी कार्रवाई करने की बात कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर स्थानीय प्रशासन एक बार फिर पटवारी सहित समिति प्रबंधक को क्लीन चिट देने में उतारू हो गया है। यही कारण है कि उक्त कार्रवाई के तकरीबन 48 घंटे गुजर जाने के बाद भी एसडीएम त्योंथर यह पता लगाने में नाकाम साबित हुए हैं कि आखिरकार उक्त धान को कौन लेकर धान खरीदी केंद्र पर आया था। ग्रामीणों द्वारा धान की खरीदी बिक्री करने वाले कुछ लोगों के नाम जरूर बता दिए गए थे। बावजूद इसके अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है। सूत्रों का दावा है कि बीती रात धान खरीदी बिक्री करने वाले दलालों द्वारा धान को मौके से गायब करने का प्रयास किया गया था, हालांकि सूचना पाकर मौके पर पहुंचे सोहागी थाना प्रभारी पवन शुक्ला द्वारा उक्त धान को ट्रक में लोड करा कर वेयरहाउस में सुरक्षित रखवाया गया है। एक बार फिर इस बात पर सबकी निगाहें टिक गई है कि प्रशासन मामले की जांच कर दोषियों के विरुद्ध कार्रवाई करेगा या फिर अन्य मामलों की तरह इसे भी ठंडे बस्ते में डाल देगा।

पटवारी को अभयदान

एसडीएम त्योंथर संजीव पांडे ने बताया कि पूरे मामले की जांच की जा रही है, जबकि हकीकत यह है कि यूपी से आने वाली धान संबंधित खरीदी केंद्र में पंजीकृत किसानों के नाम पर ही बेची जानी थी। उक्त पंजीयन किसी और ने नहीं बल्कि पटवारी हल्का सोनोरी ने ही की थी। बावजूद इसके पटवारी पर कोई भी कार्रवाई नहीं की गई। बता दें कि पूर्व में भी किसानों की जमीन में धान बोने की जानकारी गलत तरीके से फीड करने की शिकायत किसानों द्वारा कलेक्टर रीवा को की गई थी उक्त मामले में जांच भी कराई गई थी जिसमें पटवारी दोषी पाया गया था।

ये है दोषी

मिली जानकारी में बताया गया है कि धान इस अवैध कारोबार में सरकारी तंत्र भी शामिल रहता है जिसमें संबंधित हल्के का पटवारी समिति प्रबंधक समिति का कंप्यूटर ऑपरेटर व यूपी से धान खरीद कर लाने वाली बिचौलिए शामिल रहते हैं।

प्रशासन करे कार्रवाई

रीवा पुलिस कप्तान राकेश कुमार सिंह ने बताया कि उक्त कार्रवाई के लिए पुलिस बल उनसे मांगा गया था, जिसे उनके द्वारा उपलब्ध कराकर कार्रवाई में सहयोग किया गया था। अब धान की कार्रवाई करने की जिम्मेदारी एसडीएम की है पुलिस ने अपना काम कर दिया है। आगे भी हमें सूचनाएं मिलेंगी तो हम कार्रवाई कर संबंधित माल राजस्व विभाग को उपलब्ध करा देंगे।

कराएंगे जांच

इस संबंध में जब रीवा कमिश्नर राकेश कुमार जैन से बात की गई तो उन्होंने कहा कि पूरा मामला उनके संज्ञान में है, उन्होंने इस मामले में अलग से फूड विभाग द्वारा जांच कराए जाने के आदेश जारी कर दिए हैं। उन्होंने साफ कहा है कि यह गंभीर लापरवाही है इस समिति के अंदर खरीदी केंद्र शुरू होने के पहले उत्तर प्रदेश की धान पहुंच गई और किसी को कानों कान खबर नहीं हुई इस संबंध में एसडीएम त्योंथर से भी जवाब मांगा गया है।

हम मामले की जांच कर रहे हैं पूरे मामले में पटवारी, समिति प्रबंधक, समिति के कंप्यूटर ऑपरेटर सहित कुछ लोगों के नाम आए हैं। जिनके भूमिका की जांच की जा रही है दोषी पाए जाने पर संबंधित के विरुद्ध एफआईआर दर्ज कराकर मामले की जांच की जाएगी। 

इलैयाराजा टी, कलेक्टर, रीवा

Powered by Blogger.