MP : डॉक्टर और प्रबंधन की लापरवाही से फिर रीवा व्हाइट टाइगर सफारी में 7 वर्षीय सफेद बाघ गोपी की मौत


रीवा। सतना जिले के मुकुंदपुर में स्थित व्हाइट टाइगर सफारी में 7 वर्षीय व्हाइट टाइगर मेल गोपी की मौत हो गई है। हालांकि व्हाइट टाइगर मेल की मौत की जानकारी पहले तो उजागर नहीं की गई, बाद में टाइगर सफारी के डायरेक्टर संजय राय खेड़े ने गोपी की मौत की पुष्टि कर दी है। उन्होंने बताया कि गोपी की मौत गत बुधवार की शाम 5 बजे ही हो गई थी, जिसकी पुष्टि डॉक्टर जी पी त्रिपाठी द्वारा शाम 6बजे तक की गई। आनन-फानन में पीएम के लिए जबलपुर से टीम बुलाई गई है। प्रोटोकॉल के अनुसार पीएम की तैयारी की जा रही है। पीएम के लिए जबलपुर से मेडिकल टीम को बुलाया गया है उनके द्वारा पीएम के उपरांत सैंपल भी सुरक्षित कर लैब के लिए भेजा जाना है।

भिलाई से आया था गोपी

ज्ञात हो कि नवंबर 2013 में गोपी को भिलाई अभ्यारण से टाइगर सफारी मुकुंदपुर लाया गया था गोपी सफेद बाघ नर था। बताया जाता है कि मुकुंदपुर टाइगर सफारी आने वाले दर्शकों के लिए गोपी सहजता से उपलब्ध हो जाता था। बाड़ी में उछल-कूद करने के साथ ही दौड़ना और अपने शहंशाही अंदाज दर्शकों के समक्ष पिजड़े के बाहर आकर बैठ जाना गोपी की आदत में शुमार था।

गोपी की मौत हो गई है पीएम के लिए जबलपुर से मेडिकल टीम बुलाई गई है पीएम के बाद ही कुछ कह पाना संभव होगा।

संजय रायखेड़े डायरेक्टर टाइगर सफारी मुकुंदपुर
Powered by Blogger.