REWA : बेरोजगार हुए कोरोना योद्धाओं ने तला पकौड़ा, 13वें दिन भी धरना जारी

           

रीवा. कोविड-19 में अस्थाई नियुक्ति पर कोरोन से जंग लडऩे वाले कोरोना योद्धाओं को सरकार ने हटा दिया है। बेरोजगार हुए कोविड कर्मचारियों का धरना 13वें दिन भी जा रहा। कोरोना योद्धाओं ने बेरोजगारी को लेकर धरना स्थल पर पकौड़े तलकर विरोध जताया है। 

कोरोना योद्धाओं की लड़ाई न्यायोचित
कलेक्ट्रेट के सामने अनिश्चितकालीन धरना के 13 वें दिन बेरोजगार हुए आंदोलनकारियों ने पकोड़े तलकर विरोध दर्ज कराया है। शनिवार को अध्यक्षता कोविड जिला प्रभारी डा. शशांक मणि मिश्रा ने की। फार्मासिस्ट ओमकार पटेल ने कहा कि कोरोना योद्धाओं के साथ हुए अन्याय को लेकर सिर्फ प्रदेश की जनता की नहीं बल्कि पूरे देश के लोगों की सहानुभूति है। उनकी लड़ाई पूरी तरह न्यायोचित है। कोरोना योद्धाओं के साथ हुए अन्याय को लेकर असंतोष है। 

सेवाएं समाप्त कर सरकार कर रही ज्यादस्ती 
कोरोना योद्धाओं ने कहा सेवाएं समाप्त सरकार ज्यादस्ती कर रही है। उन्होंने चेतावनी दी है कि यदि शीघ्र कोरोना योद्धाओं को सेवाओं में वापिस नहीं लिया जाता है तो जनता सडक़ पर उतरने को मजबूर होगी। धरना स्थल पर काली पट्टी बांध कर विरोध किया जा रहा है। आगामी 14 दिसंबर सोमवार को कोरोना योद्धाओं की लड़ाई के समर्थन में कवि सम्मेलन का आयोजन धरना स्थल पर दिन 2 बजे से रखा गया है।
Powered by Blogger.