REWA : प्रशासन ने शहर में की बड़ी कार्यवाही : इटौरा बाइपास से हटाए लगभग सवा सौ झोपड़े व पक्के मकान

रीवा । मध्य प्रदेश सरकार के माफिया अभियान के तहत सोमवार को प्रशासन ने शहर में बड़ी कार्रवाई करते हुए विश्वविद्यालय थाना अंतर्गत इटौरा बाईपास में भू-माफिया पर कार्रवाई की है। इस मुहिम के दौरान बाइपास मुख्य मार्ग से लगे हुए सरकारी जमीनों पर किए गए अवैध कब्जे को प्रशासन के बुलडोजर ने एक झटके में ही ढहा दिया है। दिलचस्प पहलू यह है कि इस कार्रवाई में पक्का निर्माण कार्य के साथ ही झोपड़ी को भी प्रशासन ने हटा दिया। बताया जा रहा है कि माफिया अभियान के तहत लगभग सवा सौ अवैध निर्माण कार्यों को प्रशासन ने इस दौरान हटाया है।

बनाई गई थीं टीमें : अवैध निर्माणों को हटाने के लिए जिला प्रशासन द्वारा टीम बनाई गई थी और इसमें राजस्व विभाग के अधिकारियों के साथ ही नगर पालिक निगम का फ्लाइंग स्क्वॉड व पुलिस विभाग की टीम भी शामिल की गई थी। उक्त टीम में शामिल अधिकारी और कर्मचारी कार्रवाई के दौरान मुस्तैद दिखे।

लोगों में मची चीख-पुकार : सरकारी जमीन पर झोपड़ पट्टी बनाने के साथ ही लोगों ने उसमें पक्का निर्माण कार्य शुरू कर दिया था। पिलर आदि खड़ा करने के साथ ही पक्का घर बनाने की कवायद की जा रही थी। कार्रवाई के दौरान प्रशासन ने पक्के घर के साथ झोपड़पट्टी को जैसे ही हटाना शुरू किए, उसमें रह रहे परिवारों के बीच कार्रवाई को देखते हुए लोगों की चीख-पुकार मच गई। कई परिवारों का कहना था कि इस तेज ठंड में वे आखिरकार अपने बच्चों को लेकर कहां जाएं। सड़क के किनारे वे लोग झोपड़ी बनाकर जीवन यापन कर रहे थे। सरकार पहले उन्हें स्थाई रूप से रहने के लिए जगह दिलाए। इसके बाद उनकी झोपड़ी गिराने का काम करे। लेकिन माफिया अभियान के तहत की गई कार्रवाई के दौरान प्रशासन ने एक न सुनी और अवैध निर्माण को गिराने का काम किए गया हैं।

लगाई गई थी मशीनरी : सड़क के किनारे सरकारी जमीन पर अतिक्रमण हटाने के लिए प्रशासन ने चार जेसीबी मशीन लगाने के साथ ही तीन डंपर वाहन और ट्रैक्टर भी लगाए थें। निर्माण को ढहाने के साथ ही उन्हें हटाने का काम भी किया जा रहा था। साथ ही दुबारा कब्जा न कर सकें इसके लिए हिदायत भी दी गई है।

लोगों की जमा रही भीड़ : प्रशासन द्वारा चलाए जा रहे अभियान के दौरान इटौरा सहित आसपास के लोगों की भारी भीड़ जमा रही। उन्हें कंट्रोल करने के लिए पुलिस मुस्तैद रही। कार्रवाई के दौरान कई बार कुछ स्थानीय नेता और अतिक्रमणकारियों के द्वारा विरोध किया जा रहा था। इसे हटाने पहुंचे पुलिसकर्मियों ने न सिर्फ पकड़कर किनारे किया बल्कि अवैध निर्माण का हवाला देते हुए सामान हटाने की समझाइश देते रहे।

सरकारी जमीन पर लगभग सवा सौ कच्चे-पक्के और झोपड़ीनुमा घर बने हुए थे। उक्त अतिक्रमण तकरीबन ढाई एकड़ क्षेत्र में था। जहां से अवैध निर्माण हटाया गया है। कार्रवाई माफिया अभियान के तहत की गई है।

इला तिवारी, एडीएम रीवा।

Powered by Blogger.