ब्रिटेन ने अधिक तेजी से फैलने वाले नए कोरोनो वायरस की पुष्टि की, WHO को किया सूचित



इंग्लैंड के मुख्य चिकित्सा अधिकारी क्रिस व्हिट्टी ने कहा कि लंदन ने विश्व स्वास्थ्य संगठन को अपने निष्कर्षों की जानकारी दे दी है.

लंदन: coronavirus: इंग्लैंड के मुख्य चिकित्सा अधिकारी क्रिस व्हिटी ने शनिवार को पुष्टि की कि देश में सामने आया एक नया कोरोन वायरस तेजी से फैल सकता है. उन्होंने इसके संक्रमण को कम करने के लिए सार्वजनिक रूप से अधिक सतर्कता बरतने का आह्वान किया है. व्हिटी ने कहा कि लंदन ने विश्व स्वास्थ्य संगठन को अपने निष्कर्षों की जानकारी दे दी है. स्वास्थ्य सचिव मैट हैनकॉक ने सोमवार को कहा था कि वैज्ञानिकों ने इंग्लैंड के दक्षिण में एक "नए वेरिएंट" की पहचान की है जिसका संक्रमण तेजी से फैल सकता है.

ब्रिटेन में इस महीने कोरोना के मामले बढ़े और अस्पताल में दाखिले भी बढ़े. इन हालात को देखते हुए प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन शनिवार को दोपहर में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करने वाले थे. कथित तौर पर प्रधानमंत्री क्रिसमस पर लंदन और दक्षिण-पूर्व इंग्लैंड के लिए नए यात्रा प्रतिबंधों की घोषणा करने वाले थे.

व्हिटी ने कहा कि "नई वैरिएंट के तेजी से प्रसार के परिणामस्वरूप, दक्षिण पूर्व में प्रारंभिक मॉडलिंग डेटा और तेजी से बढ़ती घटनाओं की दर (सरकार की सलाह देने वाला एक विशेषज्ञ निकाय) अब विचार कर रहा है कि इससे नया तनाव अधिक तेज़ी से फैल सकता है." 

उन्होंने कहा कि "हमने विश्व स्वास्थ्य संगठन को सतर्क कर दिया है." उन्होंने यह भी कहा कि 'तनाव की नई स्थिति बनने के लिए फिलहाल कोई प्रमाण नहीं हैं, कि उच्च मृत्यु दर के हालात बनें या यह टीके और उपचार को प्रभावित करे. हालांकि इसकी पुष्टि के लिए तत्काल काम चल रहा है."

ब्रिटेन सरकार के आंकड़ों के अनुसार शुक्रवार को कोविड के 28507 नए पॉजिटिव केस सामने आए. पिछले सप्ताह के मामलों की तुलना में इस सप्ताह कोरोना के मामलों में 40.9 प्रतिशत की वृद्धि हुई है. ब्रिटेन में अब तक कुल 10 लाख 98 हजार से अधिक कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं.
 
वेल्स और उत्तरी आयरलैंड में क्रिसमस के बाद लॉकडाउन लगाया जा सकता है. बोरिस जॉनसन ने शुक्रवार को इंग्लैंड में फिर से लॉकडाउन लगाने से इनकार कर दिया. उन्होंने कहा कि "हम बहुत उम्मीद कर रहे हैं कि हम ऐसा कुछ भी करने से बच जाएंगे." उन्होंने कहा कि "लेकिन वास्तविकता यह है कि पिछले कुछ हफ्तों में संक्रमण की दर बहुत अधिक बढ़ गई है."
Powered by Blogger.