CRIME : महिला को बंधक बनाकर कई दिनों तक 5 आरोपी करते रहें दुष्कर्म , पुलिस की सुस्ती से निराश पीड़िता ने दी जान देने की चेतावनी : फिर हुआ ये ..

दतिया. मध्य प्रदेश में दतिया जिले के लांच थाना क्षेत्र के स्यावरी गांव में रहने वाली एक महिला ने पांच लोगों पर गैंगरेप करने और जान से मारने की धमकी देने का आरोप लगाया है। पीड़िता ने कहा है कि आरोपियों ने उसे कई दिनों तक बंधक बनाकर रखा, लेकिन घटना के 11 महीने बीतने के बाद भी पुलिस उन्हें पकड़ नहीं रही। पीड़िता ने कहा है कि यदि पुलिस सभी आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज नहीं करेगी तो वह अपनी जान दे देगी।

भोपाल के तीन थानों में लगा कर्फ्यू : 11 थाना क्षेत्रों में धारा-144 : आदेश जारी

मंगलवार को पीड़िता ने एक होटल में मीडियाकर्मियों के सामने खुद अपनी आपबीती सुनाई। उसने कहा कि घटना 3 फरवरी 2020 की रात की है जब वह स्यावरी गांव में एक तेरहवीं मे खाना खाने जा रही थी। रास्ते में कल्लू रावत, बल्ली रावत, किशन सिंह यादव, राजेन्द्र सिंह रावत एवं मूलु चौहान ने उचाड़ गांव में कट्टा अड़ाकर उसे जबरदस्ती पकड़कर बोलेरो में बिठा लिया। आरोपियों ने उसे गाड़ी में बेहोश कर दिया और बंधक बनाकर नरसिंहपुर जिला के नोनिया गांव ले गए। वहां सभी ने बारी-बारी से उसके साथ दुष्कर्म किया।

पुलिस कांस्टेबल भर्ती 2021: पुलिस आरक्षक भर्ती परीक्षा के लिए आज से शुरू होंगे आवेदन

घूम-घूम कर करते रहे दुष्कर्म

पीड़िता के मुताबिक आरोपी उसे नोनिया से डबरा लेकर गए और वहां कल्लू रावत के मकान में रखा। वहां भी उसके साथ गैंगरेप किया। इसके बाद उसे दिनारा में सेवढ़ा लेकर गए। वहां भी उसे एक घर में बंधक बनाकर रखा गया। आरोपी उसे घर में ताला डाल कर रखते थे। वह किसी तरह उनके चंगुल से निकली और भागकर अपने घर स्वावरी पहुंची। उसने लांच थाना में आरोपियों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई।

पुलिस दर्ज नहीं कर रही मामला

पीड़िता ने बताया कि इसके बाद से आरोपी उसे एवं उसके बच्चों को जान से मारने की धमकियां दे रहे हैं। पीड़िता ने 7 सितम्बर 2020 को दतिया के एसपी को भी आवेदन देकर मदद की गुहार भी लगाई, लेकिन लांच पुलिस ने केवल एक आरोपी कल्लू रावत के खिलाफ ही एफआईआर दर्ज की। पीड़िता ने पुलिस-प्रशासन से मांग की है कि इस मामले में शेष चार आरोपियों पर भी केस दर्ज किया जाए। ऐसा नहीं होने पर उसने जान देने की धमकी दी है।

एसपी ने कहा, शिकायत नहीं मिली

इस मामले में लांच के थाना प्रभारी का कहना है कि इसकी जांच एसपी कार्यालय के महिला प्रकोष्ठ शाखा द्वारा की जा रही है। वहीं, एसपी अमन सिंह राठौर ने कहा कि उन्हें किसी महिला की शिकायत नहीं मिली। हालांकि, उन्होंने जांच के बाद सबूतों के आधार पर आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई का आश्वासन दिया है।

Powered by Blogger.