REWA : आधा दर्जन बसों पर कार्रवाई, वसूला 10 लाख रुपये से अधिक बकाया कर


रीवा । प्रदेश सरकार के निर्देश के बाद परिवहन विभाग इन दिनों पुराने बकाया टैक्स को लेकर अपने तेवर सख्त कर लिए हैं। वसूली को लेकर विभागीय कर्मचारी कितने सजग है इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है। सदा ऐसी कार में बैठकर चलने वाले क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी इन दिनों स्वयं सड़कों पर उतर कर रॉयल्टी जमा न करने वाली बस व ट्रकों के विरुद्ध कार्रवाई कर रहे हैं। गत तीन दिनों के अंदर अलग-अलग स्थानों से तकरीबन आधा दर्जन बसों से विभाग द्वारा 10 लाख रुपए से अधिक की धनराशि वसूल की गई है जिसे शासन के खाते में जमा कराया गया है। बताया गया है कि इन दिनों परिवहन आयुक्त द्वारा पुराने बकाया को लेकर परिवहन विभाग के क्षेत्रीय परिवहन परिवहन अधिकारी को एक निजी मुहिम चलाकर वसूली करने के सख्त निर्देश दिए हैं जिसके बाद या कार्रवाई शुरू हो गई है।

जारी रहेगी कार्रवाई : वित्तीय वर्ष में सर्वाधिक समय कोरोना काल को लेकर बीत चुका है। इस समय अवधि में बस ऑपरेटरों द्वारा टैक्स नहीं जमा किया गया और शासन ने इन्हें क्षमा ही टैक्स में छूट भी जारी कर दी छूट मिलने के बावजूद बस ऑपरेटर बकाया टैक्स जमा करने के बजाय चोरी-छिपे बस का संचालन कर रहे हैं जिसकी शिकायत लगातार क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय पहुंच रही थी।

लगातार हो रही समीक्षा : राजस्व वसूली को लेकर कई स्तर पर समीक्षा की जा रही है प्रदेश सरकार के निर्देश के बाद संभाग स्तर पर कमिश्नर जिला स्तर पर कलेक्टर प्रत्येक सप्ताह वसूली को लेकर समीक्षा कर रहे हैं विभाग के जानकार बताते हैं की वसूली को लेकर टारगेट फिक्स कर दिया गया है जिसके चलते लगातार कार्रवाई की जा रही है।

कमिश्नर ने लगाई क्लास, कहा-निर्धारित लक्ष्य से अधिक राजस्व वसूली के करें प्रयास : कमिश्नर

संभाग के कमिश्नर राजेश कुमार जैन ने शनिवार को संभागीय समीक्षा बैठक में परिवहन विभाग के कार्यों की समीक्षा की। कमिश्नर कार्यालय में आयोजित बैठक में कमिश्नर ने कहा कि सभी परिवहन अधिकारी वाहनों के परमिट तथा फिटनेस की नियमित जांच करें। वाहनों के पंजीयन, बीमा, पर्यावरण प्रदूषण संबंधी प्रमाण पत्र की भी नियमित जांच करें। कोरोना संकट के कारण लगभग चार महीने परिवहन व्यवसाय पूरी तरह से बंद रहा। शासन द्वारा कोरोना संकट काल में वाहनों के परमिट तथा अन्य राशियों में छूट का लाभ दिया गया । जिसके कारण परिवहन राजस्व में कमी आई है। अब परिवहन व्यवसाय लगभग सामान्य हो गया है। निर्धारित लक्ष्य के अनुसार परिवहन राजस्व की प्राप्ति सुनिश्चित करें। निर्धारित लक्ष्य से अधिक राजस्व वसूली के प्रयास करें।

222 करोड़ 81 लाख के परिवहन राजस्व का लक्ष्य : बैठक में कमिश्नर ने कहा कि रीवा संभाग के लिए एक जून 2020 से 31 मार्च 2021 की अवधि के लिए 222 करोड़ 81 लाख के परिवहन राजस्व का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। अब तक संभाग में 187 करोड़ 12 लाख रुपये की राजस्व प्राप्ति हुई है। वर्तमान वित्तीय वर्ष के लिए परिवहन विभाग में रीवा जिले के लिए 78.59 करोड़ सतना के लिए 82.03 करोड़, सीधी जिले के लिए 24.95 करोड़ तथा सिंगरौली के लिए 37.93 करोड़ रुपये की राजस्व प्राप्ति का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इस लक्ष्य के विरुद्ध 31 दिसम्बर तक रीवा जिले में 51 करोड़ 78 लाख, सतना में 51 करोड़ 40 लाख सीधी में 18 करोड़ 5 लाख तथा सिंगरौली में 25 करोड़ 89 लाख रुपये के राजस्व की प्राप्ति हुई है। आगामी 31 मार्च तक लक्ष्य से अधिक राजस्व प्राप्ति के प्रयास करें। बैठक में कमिश्नर ने कहा कि प्रत्येक तीन माह में समीक्षा बैठकें आयोजित की जाएंगी। बैठक में संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।

पुराने बकाया को लेकर मुहिम चलाई जा रही है जिसमें सात बसों से तकरीबन 10 लाख 13 हजार 132 रुपये की वसूली की गई है कार्रवाई आगे भी जारी रहेगी।

मनीष त्रिपाठी, आरटीओ, रीवा।

Powered by Blogger.