REWA : बर्ड फ्लू को लेकर प्रशासन ने कसी कमर : अलर्ट जारी

रीवा। बर्ड फ्लू को लेकर जहां प्रदेश में अलर्ट जारी कर दिया गया है, वहीं दूसरी ओर रीवा जिले में इसे लेकर विभाग कमर कस चुका है। बुधवार को जिले के अलग-अलग क्षेत्रों से पशुपालन विभाग के डॉक्टरों के पास कई फोन आए। बावजूद इसके हर बार टीम भेजने के बाद टीम के हाथ कुछ खास हाथ नहीं लगा । कारण यह था कि सूचना कौओ की मौत की आ रही थी। मौके पर पहुंचने पर ना तो कौआ का शव टीम के हाथ लग रहा था ना ही कोई यह बताने के लिए तैयार था कि आखिर कहां पंछियों की मौत हो रही है। डॉ राजेश सिंह ने कहा कि रीवा जिले के बॉर्डर पर स्थित बीड़ा गांव में एक केस देखने को मिला है जो कि सतना जिले में आता है फिर भी हम तैयारी पूरी कर चुके हैं किसी भी स्थिति से निपटने के लिए हमारी टीम तैयार है।

बर्ड फ्लू रोकने पशुपालन मंत्री ने किया अलर्ट जारी

पशुपालन मंत्री प्रेम सिंह पटेल के निर्देश पर प्रदेश में हो रही कौओं की मृत्यु पर प्रभावी नियंत्रण लगाने के लिए अलर्ट जारी कर दिया गया है। प्रदेश के सभी जिलों को सतर्क रहने तथा किसी भी प्रकार की परिस्थिति में कौओं और पक्षियों की मृत्यु की सूचना पर तत्काल रोग नियंत्रण के लिए भारत सरकार द्वारा जारी निर्देशों के तहत कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए हैं। प्रदेश में 23 दिसम्बर से 3 जनवरी, 2021 तक इंदौर में 142, मंदसौर में 100, आगर-मालवा में 112, खरगोन जिले में 13, सीहोर में 9 कौओं की मृत्यु हुई है। मृत कौओं के सैम्पल भोपाल स्थित स्टेट डी.आई. लैब तत्काल भेजे जा रहे हैं। इंदौर में कंट्रोल-रूम की स्थापना कर रेपिड रिस्पांस टीम द्वारा कार्रवाई की जा रही है।

पोल्ट्री और प्रवासी पक्षियों की विशेष निगरानी

जिलें में पदस्थ पशुपालन विभाग के अधिकारियों से कहा गया है कि कौओं की मृत्यु की सूचना प्राप्त होते ही जिला कलेक्टर के मार्गदर्शन में स्थानीय प्रशासन और अन्य विभागों के समन्वय से तत्काल नियंत्रण एवं शमन की कार्रवाई कर रिपोर्ट संचालनालय भेजें। तत्काल संबंधित स्थल का भ्रमण कर आसपास के क्षेत्रों में भी रोग उदभेद नियंत्रण एवं शमन की कार्रवाई सुनिश्चित करें। पोल्ट्री एवं पोल्ट्री उत्पाद बाजार, फार्म, जलाशयों एवं प्रवासी पक्षियों पर विशेष निगरानी रखते हुए प्रवासी पक्षियों के नमूने एकत्र कर भोपाल लैब को भेजें।रोग नियंत्रण कार्य में लगे हुए अमले को स्वास्थ्य विभाग द्वारा पीपीई किट, एंटी वायरल ड्रग, मृत पक्षियों, संक्रमित सामग्री एवं आहार का डिस्पोजल और डिसइन्फेक्शन सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए हैं।

बर्ड फ्लू के लक्षण, पक्षियों पर नजर रखें

कौओं में पाया जाने वाला वायरस अभी तक मुर्गियों में नहीं मिला है। मुर्गियों में पाया जाने वाला वायरस सामान्यत होता है। पक्षियों पर नजर रखें। यदि पक्षियों की आँख, गर्दन और सिर के आसपास सूजन है, आँखों से रिसाव हो रहा है, कलगी और टांगों में नीलापन आ रहा है, अचानक कमजोरी, पंख गिरना, पक्षियों की फुर्ती, आहार और अंडे देने में कमी दिखाई देने के साथ असामान्य मृत्यु दर बढ़े, तो सतर्क हो जाएं। इसे कदापि छुपाएँ नहीं, वरना यह परिवार के स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक हो सकता है। पक्षियों की मृत्यु की सूचना तत्काल स्थानीय पशु चिकित्सा संस्था या पशु चिकित्सा अधिकारी को दें।

Powered by Blogger.