REWA : क्योटी जलप्रपात के समीप शासकीय भूमि पर अवैध रूप से बने ढाबे पर चला प्रशासन का बुलडोजर : यह था मामला

Telegram

रीवा अनुविभागीय दंडाधिकारी सिरमौर नीलमणि अग्निहोत्री एवं अनुविभागीय अधिकारी पुलिस सिरमौर पी एस परस्ते के नेतृत्व में शासकीय भूमि पर अवैध रूप से कब्जा करके क्योटी जलप्रपात के पास बनाए गए ढाबा को गिराया गया विदित हो कि एसडीओपी सिरमौर पी एस परस्ते ने क्योटी जलप्रपात के पास शासकीय भूमि पर अवैध रूप से अतिक्रमण करके संचालित किए जा रहे परिहार ढाबा जिसके संचालक रेशू सिंह परिहार पिता हरि करण सिंह परिहार निवासी दुलहरा थाना सिरमौर के द्वारा ढाबे की आड़ में अवैध नशीली वस्तुओं की तस्करी की जा रही थी जिसके विरुद्ध थाना सिरमौर में दर्जन भर से अधिक प्रकरण पंजीबद्ध है किंतु उसके बावजूद भी ढाबा संचालक रिशु सिंह परिहार लगातार नशे का काम करते हुए क्षेत्र के युवाओं को नशे की गिरफ्त में फंसाता चला आ रहा था तथा इसी ढाबा के संचालन की आड़ में लूटपाट जैसी गंभीर घटना घटित होती रहती थी जिसको संज्ञान में लेते हुए अनुविभागीय दंडाधिकारी नीलमणि अग्निहोत्री को पत्र लिख किया जिस पर कार्यवाही करते हुए तहसीलदार सिरमौर ने शासकीय भूमि पर कब्जा करके बनाए गए अवैध ढाबा को धारा 248 मध्य प्रदेश भू राजस्व अधिनियम 1959 के तहत रिशु सिंह परिहार को उक्त जमीन से बेदखली का आदेश जारी किया गया जिसके आधार पर एसडीओपी सिरमौर  एवं थाना सिरमौर थाना बैकुंठपुर थाना सिमरिया थाना सकरा तथा अन्य रीवा जिले के पुलिस बल ने मिलकर राजस्व विभाग के अधिकारियों के साथ अवैध रूप से निर्माण किए गए ढाबा को गिराया गया। 

Powered by Blogger.