REWA : छुहिया घाटी अपडेट : मृतक के परिजनों ने कंपनी प्रबंधन पर लगाया लापरवाही का आरोप

रीवा। जिले के गोविंदगढ़ थाना अंतर्गत छुहिया घाटी में हुए बसवा टेलर हादसे में मृतक के परिजनों ने कंपनी पर भी लापरवाही का आरोप लगाया है परिजनों ने आरोप लगाते हुए कहा है कि अल्ट्राटेक सीमेंट कंपनी नियम विरुद्ध तरीके से गर्म क्लिंकर का परिवहन कराती है उन्होंने कहा कि जिन कर्मचारियों की मौत हुई है वह लगातार कंपनी प्रबंधन से स्कूल कैंपस में ही आवास की मांग कर रहे थे और आवास देने के बजाय कंपनी कर्मचारियों को लगातार प्रतिदिन रीवा से यात्रा करने के लिए मजबूर कर रही थी हालांकि घटना में मृतक के परिजनों ने जहां एक ओर शव का पीएम कराने से इनकार कर दिया है वहीं दूसरी ओर उनके द्वारा कंपनी प्रबंधन से मुआवजा एवं नौकरी की मांग की जा रही है जिसके चलते गुरुवार की देर शाम तक शव का पीएम नहीं हो सका है।

हादसे के बाद याद आता है नियम

घटना के तुरंत बाद क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी मनीष त्रिपाठी द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि कंपनी द्वारा कर्मचारियों को लाने ले जाने के लिए इस्तेमाल की जा रही बस सरदार पटेल स्कूल की बताई गई है जांच कराने में पाया गया है कि उसका परमिट पहले से ही पूरा हो चुका था लिहाजा परमिट अवधि बीतने पर परमिट अपने आप निरस्त माना जाता है बस संचालक के इस कृत्य को देखते हुए बस की फिटनेस भी रद्द कर दी गई है उन्होंने बताया कि बस क्रमांक एमपी 17पी 1170 का अब परमिट फिटनेस दोनों निरस्त हो चुका है और मामले की जांच की जा रही है। बता दें कि क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी द्वारा परमिट फिटनेस की याद उस समय आती है जब कोई बड़ा हादसा घटित हो जाता है घटना के तुरंत बाद परिवहन अधिकारी द्वारा फिटनेस वर्क परमिट निरस्त करने की बात हर बार कही जाती है बावजूद इसके समय रहते फिटनेस या परमिट देखने की फुर्सत क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी या अमले को नहीं रहती है।

घटना पर एक नजर

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शिव कुमार ने जानकारी देते हुए बताया कि अल्ट्राटेक सीमेंट कंपनी के विद्यालय के कर्मचारी गुरुवार की सुबह बस क्रमांक एमपी 17 पी 1170 में सवार होकर बघवार जा रहे थे जैसे ही वह छुहिया घाटी के समीप पहुंचे सामने की ओर से आ रहे ट्रेलर क्रमांक एमपी 66 एच 1767 बस से टकराकर बस पर ही पलट गया जिसके कारण टेलर में लोड गर्म क्लिंकर बस के पिछले भाग में घुस गया जिसके कारण 3 कर्मचारियों की मौके पर ही मौत हो गई जबकि एक कर्मचारी अस्पताल पहुंचने के साथ ही दम तोड़ दिया वहीं घटना में 10 लोग और घायल हैं जिन्हें इलाज के लिए कंपनी प्रबंधन द्वारा निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है उन घायलों में दो की हालत गंभीर बनी हुई है घटना में 4 लोगों की मौत हुई है जिसमें 3 की पहचान तो हो गई है बल्कि एक युवक की अभी पहचान नहीं हो सकी है

देखना पड़ेगा नियम

नियम विरुद्ध तरीके से अल्ट्राटेक सीमेंट कंपनी द्वारा किए जा रहे गर्म क्लिंकर करके परिवहन के संबंध में खनिज अधिकारी रत्नेश दीक्षित ने कहा है कि गर्म क्लिंकर के परिवहन के नियमों को देखना पड़ेगा अगर कंपनी ने नियम विरुद्ध तरीके से क्लिंकर का परिवहन कराया है तो उनके विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी।

कंपनी का पहुँचे कर्मचारी

गुरुवार की देर साथ जब मृतक के परिजनों ने शव का पीएम कराए जाने से मना कर दिया तो परिजनों को मनाने के लिए अल्ट्राटेक कंपनी के कर्मचारी मौके पर पहुंचे लेकिन परिजन लगातार कंपनी से मुआवजा एवं परिवार के एक सदस्य को नौकरी की मांग करते नजर आए हालांकि संबंध में रीवा कलेक्टर इलैया राजा टी ने बताया है कि पूरे मामले की जांच कराई जा रही है दोषी जो भी पाया जाएगा उसके विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी।

ट्रेलर कौन है मालिक

पुलिस या बाद का पता लगाने में जुट गई है कि आखिरकार दुर्घटनाकारित ट्रेलर का संचालन कौन कर रहा है हाला की प्राथमिक जांच में पता चला है कि उक्त ट्रेलर का संचालन स्वयं अल्ट्राटेक कंपनी कर रही है। लिहाजा अब पुलिस खनिज विभाग से यह पूछ रही है की गर्म क्लिंकर कर के परिवहन के नियम क्या है।

इन्होंने कहा

परिजनों द्वारा पीएम न कराए जाने को लेकर प्रदर्शन किया जा रहा था जिसके कारण शव को पीएम हाउस में रखवाया गया है। 

डॉ अतुल सिंह, सीएमओ संजय गांधी अस्पताल रीवा

मृतक के परिजन पीएम कराने के लिए तैयार नहीं थे उनकी कंपनी से कुछ मांगे हैं जिसके कारण गुरुवार को मृतकों का पीएम नहीं हो सका है शुक्रवार की सुबह पीएम कराया जाएगा मामला दर्ज कर मामले की जांच की जा रही है। 

राजेश कुमार सिंह, पुलिस अधीक्षक रीवा 

Powered by Blogger.