कोरोना का असर : वैक्सीनेशन के बाद सिर दर्द, हल्के बुखार की शिकायत

कोरोना टीकाकरण के बाद स्वास्थ्य कर्मियों में अलग-अलग तरह के लक्षण देखे गए, हालाँकि किसी के भी गंभीर रूप से बीमार होने की जानकारी नहीं आई। कुछ स्वास्थ्य कर्मियों ने जहाँ हल्का बुखार, बदन दर्द, सिर दर्द की शिकायत की, वहीं कुछ को दिन में भी नींद आने के लक्षण दिखे।

कुछ जगहों पर हैल्थ वर्कर्स को उल्टियाँ भी हुईं। विशेषज्ञों का कहना है कि आमतौर पर वैक्सीन लगाने के बाद इस तरह के लक्षण दिखाई देते हैं। ज्यादातर दिक्कतें मामूली होती हैं, इसमें बाँह पर सूजन, घबराहट, एलर्जी और रैशेज भी हो सकते हैं। वैक्सीन बॉडी में आर्टीफीशियल इम्यूनिटी तैयार करती है। ऐसे में लोगों को बिना घबराए टीका लगवाना चाहिए। 1-2 दिन ही नजर आ रहे लक्षण - कुछ स्वास्थ्य कर्मियों ने बताया कि वैक्सीन लगने के 1 से 2 दिन तक ही स्वास्थ्य संबंधी कुछ समस्याएँ दिखाई दीं, इसके बाद ठीक हो गईं।

इम्यूनिटी पर डिपेंड - विशेषज्ञों का कहना है कि बीसीजी, डीपीटी, मीजल्स, हेपेटाइटिस बी जैसे टीकों में भी कुछ साइड इफेक्ट आते हैं। यह बात लगभग सभी जानते-समझते हैं।

ट्टमैंने स्वयं टीका लगवाया है और किसी तरह के लक्षण नहीं आए। कुछ लोगों में अगर स्वास्थ्य संबंधी समस्याएँ आईं हैं तो यह सामान्य है। सभी तरह के टीके लगवाने के बाद इस तरह लक्षण आते हैं।

डॉ. रत्नेश कुरारिया, सीएमएचओ

सोमवार से टीकाकरण का दूसरा सप्ताह, अब 20 केंद्रों पर 25 सेशन में लगेगी वैक्सीन

जिले में चल रहा कोरोना टीकाकरण अभियान अब गति पकड़ने की ओर अग्रसर है। पहले सप्ताह में जहाँ 7 केंद्रों पर स्वास्थ्य कर्मियों को टीका लगाया गया, वहीं दूसरे सप्ताह में 20 केंद्रों पर टीकाकरण होगा। इसमें शासकीय स्वास्थ्य केंद्रों समेत निजी चिकित्सालय भी शामिल किए जाएँगे।

स्वास्थ्य विभाग द्वारा जबलपुर को 20 केंद्रों के लिए 25 सेशन आवंटित किए गए हैं, जिसके बाद एक दिन में अधिकतम 2500 स्वास्थ्य कर्मियों को टीका लगाया जा सकेगा। कुछ केंद्रों पर 1 ही दिन में दो सेशन होंगे। सोमवार से शुरू हो रहे दूसरे हफ्ते में बुधवार, गुरुवार और शनिवार को टीका लगेगा। इस तरह चार दिनों में 10 हजार स्वास्थ्य कर्मियों को टीका लगाने का टारगेट है। इस हिसाब से देखें तो 3 हफ्तों के अंदर-अंदर सभी हैल्थ वर्कर्स को वैक्सीन लगने के आसार हैं।

ट्टविभाग द्वारा जबलपुर जिले को 25 सेशन दिए गए हैं। इस बार निजी चिकित्सालयों को भी केंद्र बनाया जा रहा है। तैयारियाँ शुरू कर दी गईं हैं।

डॉ. एसएस दाहिया, जिला टीकाकरण अधिकारी

Powered by Blogger.