DCGI ने कोवैक्सीन और कोविशील्ड वैक्सीन को दी मंजूरी : PM मोदी ने दी बधाई

नई दिल्ली Corona Vaccine । कोरोना महामारी के खिलाफ लड़ने के लिए देश में अभी तक दो वैक्सीन को सरकार मंजूरी दे चुकी है। इसी के साथ शनिवार को देशभर में कोरोना वैक्सनीनेशन अभियान चलाने का ड्रायरन भी सफलतापूर्वक किया गया। ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस करके बताया कि फिलहाल देश में दो वैक्सीन को मंजूरी दी गई है। डीसीजीआई के प्रमुख वीजी सोमानी ने बताया कि भारत बॉयोटेक की कोवैक्सीन और सीरम इंस्टीट्यूट द्वारा तैयार की गई कोविशील्ड वैक्सीन को फिलहाल इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी दी गई है। गौरतलब है कि DCGI ने 1 जनवरी को भारत में पहली कोरोना वैक्सीन कोविशील्ड को मंजूरी दी थी और दूसरे ही दिन 2 जनवरी को देश में बनी स्वदेशी कोरोना वैक्सीन की को मंजूरी दे दी थी। वहीं दोनों कोरोना वैक्सीन को डीसीजीआई की मंजूरी मिलने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी लगातार ट्वीट करके वैज्ञानिकों को बधाई दी है। प्रधानमंत्री ने कहा कि दोनों वैक्सीन पूरी तरह से भारत में निर्मित की गई है। इमरजेंसी उपयोग में लाए जाने वाली इन वैक्सीन के उपयोग पर हर भारतीय को गर्व होगा। हमारे वैज्ञानिकों द्वारा आत्मनिर्भर भारत बनाने की दिशा में उठाया गया ये एक बड़ा कदम है।

01:03Ad
1

दोनों वैक्सीन को इमरजेंसी उपयोग के लिए मंजूरी

शनिवार को भारत के केंद्रीय औषधि प्राधिकरण के एक्सपर्ट पैनल ने स्वदेशी रूप से विकसित कोविड-19 रोधी टीके ‘कोवैक्सीन’ के कुछ शर्तों के साथ मंजूरी दी है। केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) की कोविड-19 संबंधी एक विषय विशेषज्ञ समिति (एसईसी) ने शुक्रवार को ऑक्सफोर्ड के कोरोना वायरस रोधी टीके के भारत में इमरजेंसी इस्तेमाल के लिए मंजूरी देने की भी सिफारिश की थी। इसी के साथ भारत में कोविड-19 का पहला टीका जल्द आ सकता है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी शनिवार को कहा कि सीडीएससीओ की विषय विशेषज्ञ समिति (एसईसी) ने भारत में कोविशील्ड के सीमित आपातकालीन उपयोग के लिए सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) को अनुमति देने की सिफारिश की है, जो कई नियामक शर्तों के अधीन है। रक्षा मंत्रालय ने बताया कि सीडीएससीओ के एसईसी ने एक और दो जनवरी को बैठक कीं और भारत के औषधि महानियंत्रक (डीसीजीआई) को मंजूरी पर विचार करने और इस पर अंतिम निर्णय के लिए सिफारिशें भेजीं।'

भारत बायोटेक ने तैयार की है कोवैक्सीन

कोवैक्सीन कोरोना वैक्सीन को भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) के साथ मिलकर भारत बायोटेक द्वारा स्वदेशी रूप से विकसित किया गया है। सीडीएससीओ की कोविड-19 पर विषय विशेषज्ञ समिति ने अतिरिक्त डाटा, तथ्य और विश्लेषण सौंपे जाने के बाद हैदराबाद स्थित फार्मा फर्म के वैक्सीन के इमरजेंसी उपयोग संबंधी आवेदन पर शनिवार को फिर से विचार-विमर्श किया। भारत बायोटेक ने 7 दिसंबर को स्वदेश में विकसित कोवैक्सीन टीके की मंजूरी के लिए भारत के औषधि महानियंत्रक (डीसीजीआई) के समक्ष अर्जी दाखिल की थी। इससे पहले एसईसी ने शुक्रवार को ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका के कोरोना वायरस रोधी टीके ‘कोविशील्ड’ के भारत में आपात इस्तेमाल के लिए मंजूरी देने की सिफारिश की थी।

Powered by Blogger.