REWA : आपने छप्पर फाड़ के चुना है तो वादा करता हूं मैं भी छप्पर फाड़ कर विकास करूंगा : CM शिवराज

रीवा। जब मैंने चौथी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ ली । उसी समय मैंने तय कर लिया था कि रीवा की पवित्र भूमि पर ध्वजारोहण करूगा। ऐसे ही यह तय नहीं किया था जब आपने छप्पर फाड़ कर हमें चुनने का काम किया है तो मैं भी वादा करता हूं यहां मैं छप्पर फाड़ कर विकास करूंगा। उक्त बातें मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा 158 करोड़ रुपए की लागत से बनकर तैयार हुए एकीकृत ठोस अपशिष्ट प्रबंधन एवं कचरा शोधन संयंत्र का लोकार्पण करते हुए कही । उन्होंने कहा कि ग्राम पड़रिया में लगने वाले इस कचरा शोधन संयंत्र से न केवल खाद का निर्माण कर होगा बल्कि 6 मेगावाट विद्युत का उत्पादन भी होगा । 

श्री चौहान ने कहा कि इस क्षेत्र के विकास के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी ।उन्होंने कहा कि हमने एक करोड़ 29 लाख टन गेहूं खरीद कर पंजाब को पीछे करने का काम किया है। यह कीर्तिमान ऐसे ही नहीं मिला । हमने बाणसागर का पानी नेहरो के माध्यम से किसानों के खेत तक पहुंचाने का काम किया है। श्री चौहान ने कहा कि लगातार क्षेत्र के विकास वह नई योजनाओं का लाभ दिलाने का प्रयास भारतीय जनता पार्टी करती है । उन्होंने किसानों को समस्या ना हो इसके लिए साफ तौर पर कहा कि कलेक्टर इस बात का निर्धारण करें कि कोई भी पटवारी अपने मुख्यालय हल्के में हफ्ते में 2 दिन निवास करेगा, अगर वह ऐसा नहीं करता है जिसकी समस्त जवाबदारी संबंधित कलेक्टर की होगी । श्री चौहान ने कहा कि मैंने कलेक्टरों को निर्देश दे दिया है कि राशन कार्ड में हितग्राहियों का नाम जोड़े यह भाजपा सरकार है। यहां पैसे की कोई कमी नहीं है। उन्होंने पूर्व सरकार पर चुटकी लेते हुए कहा कि यह कमलनाथ की सरकार नहीं है कि पैसे की कमी बताकर हम लोगों का काम ना करें । श्री चौहान एक बार फिर अपने पुराने लय में दिखाई दिए उन्होंने प्रदेश सरकार द्वारा चलाई जा रही । योजनाओं को न केवल गिनाया बल्कि हाल में ही महाविद्यालय खोलने की की गई घोषणा का भी जिक्र किया है। लोकार्पण करने के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कलेक्ट्रेट रीवा के लिए रवाना हो गए।

लागत 158.67 करोड़ रूपये

इस योजना के तहत क्षेत्रीय एकीकृत ठोस अपशिष्ट प्रबंधन, डोर टू डोर कचरा एकत्रीकरण, परिवहन व प्रसंस्करण एवं निष्पादन किया जाएगा। कचरा शोधन संयंत्र में रीवा, सतना एवं सीधी जिले के 28 नगरीय निकायों का कचरा पहुंचेगा। कचरा शोधन संयंत्र में तीन सौ एमटी प्रतिदिन क्षमता के कम्पोस्ट प्लांट के साथ पशु शवदाह गृह, सोलर एवोपोरेशन पॉन्ड का निर्माण कराया गया है। एकत्रित किए गए कचरे से 6 मेगावाट बिजली का उत्पादन भी होगा। जिसके लिये संयंत्र की स्थापना का कार्य प्रगति पर है। उल्लेखनीय है कि एकीकृत ठोस अपशिष्ट प्रबंधन परियोजना मध्यप्रदेश शासन नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग भोपाल द्वारा वर्ष 2017 में पीपीपी मोड में वेस्ट टू एनर्जी अर्थात कचरे से बिजली उत्पन्ना्‌ा करने की नीव रखी गई थी। जिसके तहत लीड क्लस्टर मेम्बर रीवा नगर पालिक निगम के साथ सीधी एवं सतना सहित 28 नगरीय निकायों से डोर टू डोर कचरा संग्रहण कर ग्राम पहड़िया में कचरे से खाद तथा 6 मेगावाट विद्युत उत्पादन का कार्य प्रस्तावित किया गया है। इस परियोजना की लागत 158.67 करोड़ रूपये है । जिसमें प्लांट निर्माण, वाहन क्रय एवं 32 स्थानों पर ट्रांसफर स्टेशन के निर्माण के लिए कार्य किया जाना है। योजना में 55 प्रतिशत राशि शासन द्वारा एवं इस कार्य को करने के लिए अधिकृत एजेंसी रीवा एम.एस. डब्ल्यू मैनेजमेंट जाल्यसन लिमिटेड रीवा म.प्र. पूर्ण स्वामित्व रामकी एनवायरों इंजीनियर्स लिमिटेड हैदराबाद को अनुबंध किया गया। कार्य की अवधि 21 वर्ष है। उक्त योजना के अन्तर्गत एजेंसी को घर-घर कचरा संग्रहण रीवा, सतना एवं सीधी के 28 नगरीय निकाय से कचरा इकठ ठा कर परिवहन के माध्यम से ग्राम पहड़िया में वैज्ञानिक पद्धति से जैविक खाद्य बनाना एवं विद्युत उत्पादन का कार्य करना निहित है।

43 एकड़ क्षेत्रफल की भूमि

इस परियोजना में 43 एकड़ क्षेत्रफल की भूमि आवंटित की गई है। जिसमें की 300 टीपीडी का कम्पोष्ट प्लांट, 500 टीपीडी आरडीएफ प्रोसेसिंग प्लांट, पशु शव दाह 200 के.पी.,बी.आर. सेनेटरी लैंड फिल 175 टन प्रति दिवस एवं कंन्सट्रक्शन डिमोलिशन वेस्ट के लिए 100 टन प्रति दिवस की क्षमता से कार्य करने के लिए स्वीकृति प्राप्त की गई है। इस प्रक्रिया से पर्यावरण को कोई दुष्प्रभाव नही होगा एवं हरित ऊर्जा के रूप में कचरे को पुर्नचक्रण के माध्यम से निष्पादित किया जाएगा। साथ ही इस परियोजना के माध्यम से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के स्वच्छ भारत मिशन को साकार किया जाएगा।

तीन जिलों के 28 निकायों का पहुंचेगा कचरा क्क पहड़िया कचरा शोधन संयंत्र में रीवा संभाग के तीन जिलों के 28 नगरीय निकायों का कचरा पहुंचेगा। जिसमें रीवा तथा सतना जिले के 12-12 नगरीय निकाय तथा सीधी जिले के चार नगरीय निकाय शामिल हैं।

28 निकायों में ये है शमिल

पहड़िया कचरा शोधन संयंत्र में रीवा जिले के रीवा, नईगढ़ी, हनुमना, बैकुण्ठपुर, सिरमौर, मऊगंज, मनगवां, गोविंदगढ़, गुढ़, सेमरिया, चाकघाट तथा त्योंथर नगरीय निकायों का कचरा पहुंचेगा। सतना जिले के सतना, मैहर, कोटर, बिरसिंहपुर, उंचेहरा, रामपुर बघेलान, चित्रकूट, नागौद, अमरपाटन, कोठी, जैतवार तथा न्यू रामनगर नगरीय निकायों का कचरा शोधन संयंत्र में पहुंचेगा। इसी तरह सीधी जिले के सीधी, रामपुर नैकिन, मझौली तथा चुरहट नगरीय निकायों का भी कचरा पहड़िया के शोधन संयंत्र में पंहुचेगा।

ये रहे उपस्थित

कार्यक्रम में सांसद रीवा जनार्दन मिश्रा ,रीवा विधायक राजेंद्र शुक्ल ,देवतालाब विधायक गिरीश गौतम, त्योंथर विधायक श्यामलाल द्विवेदी ,सिरमौर विधायक दिव्यराज सिंह ,मऊगंज विधायक प्रदीप पटेल ,सेमरिया विधायक के पी त्रिपाठी ,मनगवां विधायक पंचू लाल प्रजापति ,कमिश्नर रीवा कलेक्टर रीवा सहित अन्य प्रशासनिक अफसर मौजूद रहे ।

Powered by Blogger.