MP : फर्जीवाड़ा रोकने अब बस व ट्रकों के इंजन-चेचिस नंबर की होंगी जांच

                

इंदौर। परिवहन विभाग द्वारा अब वाहनों की चेकिंग नए तरीके से की जाएगी। अब चालकों द्वारा दिखाए जाने वाले दस्तावेजों की जांच के साथ वाहन के इंजन और चेचिस नंबर का भी मिलान किया जाएगा। इस तरीके से जांच में फर्जी दस्तावेजों से चल रहे वाहनों को पकड़ने में मदद मिलेगी।

मिलिए इंदौर के ट्रैफिक माइकल जैक्सन से, 'मूनवॉक' स्टेप के साथ ट्रैफिक कंट्रोल करता है यह कॉन्स्टेबल

प्राप्त जानकारी के अनुसार इस संबध में मुख्यालय से निर्देश आए हैं। जिन्हें सभी अतिरिक्त क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी (एआरटीओ) और उड़नदस्ता प्रभारी परिवहन निरीक्षकों को अवगत करवा दिया गया है। इसमें कहा गया है कि प्रदेश में ऐसे कई मामले सामने आए हैं, जिसमें दस्तावेज में छेड़छाड़ कर ली गई है या नकली नंबर प्लेट लगा कर वाहनों का संचालन किया जा रहा है। इसलिए अब चेकिंग के दौरान ट्रक और बसों के चेचिस और इंजन नंबर का मिलान भी किया जाए। इसमें अंतर पाये जाने पर सीधे पुलिस में धोखाधड़ी का केस भी दर्ज किया जाएं।

सैफ अली खान की वेब सीरीज ‘तांडव' को लेकर मचा बवाल, BJP ने कहा- देवी-देवताओं का किया गया अपमान, जलाए पोस्टर

परमिट में भी चल रही धोखाधड़ी

पिछले दिनों एआरटीओ ह्दयेश यादव की टीम ने एक बस को पकड़ा था। बस चालक के पास एक परमिट मिला था, जो दिखने में असली की तरह था जबकि उसे ऑनलाइन रिकॉर्ड में देखा गया तो पता चला कि बस मालिक ने असली परमिट तो अस्थायी रूप से सरेंडर कर रखा है लेकिन उसकी रंगीन फोटो कॉपी के आधार पर बस का संचालन किया जा रहा है। इसके बाद बस को जब्त कर लिया गया था। बस संचालक पर 15 हजार का जुर्माना भी किया गया था। कुछ लोग फिटनेस के साथ भी ऐसा करते है। ट्रैफिक पुलिस ऐसी गलती को पकड़ नहीं पाती है। क्योंकि यह रंगीन फोटो कॉपी एकदम असली दस्तावेज जैसी दिखती है।


हमारी लेटेस्ट खबरों से अपडेट्स रहने के लिए सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें:

FACEBOOK PAGE INSTAGRAMGOOGLE NEWS ,TWITTER

मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ जुड़े हमसे  

Powered by Blogger.