REWA : नसबंदी शिविर : ऑपरेशन कराने के लिए जिला अस्पताल पहुंची महिलाओं की सुरक्षा भगवान भरोसे : शिविर में 1 की रिपोर्ट पॉजिटिव, 64 का ऑपरेशन

रीवा. जिले में गुरुवार को आयोजित नसंबदी शिविरों की व्यवस्था अव्यवस्था के भेंट चढ़ गई। ज्यादातर शिविरों में पर्याप्त स्वास्थ्य कर्मचारियों की ड्यूटी के बाद भी ऑपरेशन कराने के लिए पहुंची महिलाओं की सुरक्षा भगवान भरोसे रही है। शिविर में कोरोना प्रोटोकाल का पालन नहीं किए जाने से महिलाओं में संक्रमण फैलने का खतरा है। शिविरों में पंजीयन के दौरान कोरोना प्रोटोकाल की अनदेखी के चलते लाभार्थी और स्वास्थ्य कर्मचारी भी संक्रमण को लेकर भयभीत हैं।

60 महिलाओं का पंजीयन हुआ

जिला अस्पताल में आयोजित शिविर में नसबंदी ऑनरेशन के लिए गोविंदगढृ की 59 महिलाएं व 5 पुरूषों ने पंजीयन कराया। इसके अलावा जिला अस्पताल की ओर से एक महिला का पंजीयन हुआ। कुल मिलाकर 60 महिलाओं का पंजीयन हुआ। और 5 पुरूषों का पंजीयन हुआ। कोविड की जांच के दौरान किट में जैसे ही पंजीयन नंबर-4 यानी पुरूष की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। स्वास्थ्य कर्मचारियों में अफरा-तफरी मच गई। यहां मौजूद कई महिला स्वास्थ्य कर्मचारियों ने कहा कि कोविड जांच के बिना इंजेक्शन लगाने के लिए कक्ष में नहीं भेजना।

पुरूष की रिपोर्ट पॉजिटिव आई

स्वास्थ्य कर्मचारियों के मुताबिक पांच पुरूषों का पंजीयन हुआ था। जिसमें एक पुरूष संक्रमित निकला। जिससे पॉजिटिव व्यक्ति को फौरन वहां से बाहर कर उसे आइसोलेट के लिए भेज दिया। हैरान करने वाली बात तो यह कि पंजीयन के दौरान पॉजिटिव व्यक्ति महिलाओं की भीड़ तीन घंटे तक धक्का खाता रहा। शिविर में जांच के दौरान कोविड की जांच कर रहे चिकित्सक को छोड़ दे तो कोई भी कर्मचारी पीपीकिट नहीं पहना हुआ था। यही नहीं कई स्वास्थ्य कर्मचारियों और महिलाओं के चेहरे पर मास्क तक नहीं चढ़ा था। पॉजिटिव की सूचना पर कुछ कर्मचारियों ने आनन फानन में मास्क पहने और हाथ में सेनेटाइज किया।

शिविर में 60 एलटीटी के ऑपरेशन

जिला अस्पताल में गुरुवार को आयोजित नसबंदी शिविर में गोविंदगढ़ और जिला अस्पताल को मिलाकर कुल 65 पंजीयन हुए। जिसमें एक पुरूष की रिपोर्ट पॉजिटव आने पर उसका पंजीयन रद्द कर दिया गया। जिससे यहां पर कुल 64 ऑपरेशन हुए। गोविंदगढ़ की 59 व एक जिला अस्पताल की महिलाओं का 60 एलटीटी और चार एनएसबीटी के आपरेशन हुए। इसी तरह स्वास्थ्य विभाग के रेकार्ड में पूरे जिलभर में आयोजित नसंबदी शिविरों में 265 ऑनरेशन की रिपोर्ट दर्ज की की है।

वर्जन

नसंबदी शिविर में 265 ऑपरेशन हुए हैं। कोविड की जांच के बाद ही ऑपरेशन किया जाता है। ऐसे में ऑपरेशन के दौरान खतरे जैसी कोई बात नहीं है। हां यह हो सकता है कि फिजिकल दूरी नहीं रही हो। इसके लिए संबंधितों से बातकर अगले शिविरों में सुधार किए जाएंगे।

डॉ. एमएल गुप्ता, सीएमएचओ

Powered by Blogger.