25 की रात से ही बवाल की आशंका थी; बड़े किसान नेता नहीं संभाल पाए स्थिति, पुलिस भी गलतियां करती रही

26 जनवरी को ट्रैक्टर परेड के दौरान हिंसा को लेकर अब सोच-विचार का दौर शुरू है। कुछ किसान नेता इसके लिए सरकार और पुलिस को दोषी ठहरा रहे हैं। वहीं, दिल्ली पुलिस का कहना है कि परेड के दौरान किसानों की ओर से शुरू से वादाखिलाफी हुई और कई संगठनों ने पहले से ही बवाल की तैयारी कर रखी थी, लेकिन चूक दोनों ओर से हुई। कैसे इसे समझते हैं...

भीड़ किसान नेताओं के काबू में ही नहीं थी
पहले गाजीपुर बॉर्डर की बात करते हैं। यहां से शुरू से ही किसानों ने पुलिस के दिए रूट को फॉलो नहीं किया। किसान गाजीपुर बॉर्डर से बैरिकेड्स तोड़कर पांडव नगर, अक्षरधाम ब्रिज (नोएडा मोड), इंद्रप्रस्थ, रेलवे ब्रिज रोड होते हुए आईटीओ पुल, आईटीओ पुल से आईटीओ चौक और फिर लाल किले की तरफ गए। रैली तय समय से काफी पहले शुरू हो गई।

परेड की कमान युवाओं के हाथ में आ गई थी और तय बातों का लगातार उल्लंघन हो रहा था, लेकिन वरिष्ठ किसान नेताओं ने पुलिस को इस बात का कोई इनपुट नहीं दिया कि चीजें उनके हाथ से निकल चुकी हैं और भीड़ मनमाने तरीके से आगे बढ़ रही है। पुलिस ने पांडवनगर, आईटीओ पर जब किसानों को रोकने की कोशिश की तो भी कोई वरिष्ठ किसान नेता युवाओं को समझाने वाला नहीं था।

सिंघु बॉर्डर पर 25 जनवरी की रात से ही किसान संयुक्त मोर्चे के मंच पर युवाओं का कब्जा था। वहां खुलेआम नारे लग रहे थे कि परेड तय रूट पर नहीं, रिंग रोड पर करेंगे, लेकिन वरिष्ठ नेताओं ने न तो इसे रोका और न ही पुलिस को इस बात की सूचना दी। जो लोग किसानों के जत्थों के आगे थे। वे नए चेहरे थे, इनकी पुलिस के साथ कोई ट्यूनिंग नहीं थी। जब भीड़ हिंसक होने लगी तो मौके पर पुलिस अधिकारी किससे बात करें, समझ नहीं पा रहे थे। किसान आंदोलन के जाने-पहचाने चेहरे मौके पर नजर ही नहीं आए।

गाजीपुर बॉर्डर के पास किसानों ने बैरिकेड तोड़ दिए। पुलिस की तरफ से लगाए गए कंटेनर को दूर खींच ले गए।
गाजीपुर बॉर्डर के पास किसानों ने बैरिकेड तोड़ दिए। पुलिस की तरफ से लगाए गए कंटेनर को दूर खींच ले गए।

टीकरी से निकली परेड काफी दूर तक रूट पर रही, लेकिन हिंसा की खबरें आने के बाद नांगलोई में रूट तोड़ दिया गया और पुलिस को खदेड़ दिया गया। किसानों के जो वॉलंटियर्स रूट पर तैनात थे, पुलिस उनके मार्फत बात कर रही थी, लेकिन उग्र युवाओं ने उनकी बात नहीं सुनी।

पुलिस के पास संसाधन भी कम थे, गलतियां भी हुईं
पुलिस से सबसे बड़ी गलती यह हुई कि ज्यादातर फोर्स उन रूट्स पर तैनात किया गया जहां से परेड निकलने की बात तय हुई थी। इसके अलावा गणतंत्र दिवस के समारोह में पुलिस का बड़ा हिस्सा तैनात था। इसका नतीजा यह हुआ कि जिन पॉइंट्स पर किसानों ने रूट तोड़ा, वहां पुलिस उन्हें नहीं रोक पाई, क्योंकि भीड़ हजारों की संख्या में थी और फोर्स कम थी। जब तक दूसरी जगहों से पुलिस दस्ते आए तब तक कई जगह बवाल हो चुका था।

25 को तीनों बॉर्डर पर जो माहौल था, उससे साफ लग रहा था कि युवा रूट तोड़कर दिल्ली में घुसने की कोशिश करेंगे, लेकिन पुलिस की ओर से ऐसी स्थिति से निपटने की तैयारी बहुत कमजोर थी। उदाहरण के लिए पुलिस ने गाजीपुर से रूट तोड़कर निकले किसानों को पांडवनगर में रोकने की कोशिश की, लेकिन भीड़ के सामने पुलिस की टीम ज्यादा देर नहीं ठहर पाई। अगर पांडवनगर में पर्याप्त फोर्स होता तो किसानों को यहां रोका जा सकता था। इससे किसान आईटीओ नहीं पहुंच पाते तो वहां जो भारी हिंसा और तोड़फोड़ हुई वह न होती।

गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों को रोकने के लिए दिल्ली पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे। हालांकि, किसान आगे बढ़ गए।
गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों को रोकने के लिए दिल्ली पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे। हालांकि, किसान आगे बढ़ गए।

किसानों से भिडंत में पुलिस के पास संख्या के साथ-साथ संसाधनों की भी कमी साफ नजर आई। सीमेंट के हैवी बैरिकेड्स की संख्या कम थी। जो बैरीकेड लगे थे किसानों के ट्रैक्टरों को उन्हें तोड़ने में ज्यादा वक्त नहीं लगा। तेज रफ्तार से भागते ट्रैक्टरों को रोकने के लिए पुलिस की गाड़ियां नाकाफी थीं। हैवी कंटेनरों की संख्या भी पुलिस के पास कम थी। कुछ बैरिकेड पर इन्हें लगाया गया, लेकिन किसानों ने अपनी भारी क्रेनों से हटा दिया।

पुलिस एक समय इस कदर लाचार थी कि पांडवनगर में पुलिस की क्रेन को भीड़ अपने साथ लेकर चली गई। इसे करीब 3 किलोमीटर आगे ले जाकर छोड़ा गया। पुलिस दस्ते को लेकर आई बस को भी किसान साथ में लेकर चले गए। पुलिस अधिकारी भी मानते हैं कि इतनी संख्या में ट्रैक्टरों को रोकने का दिल्ली पुलिस के पास ज्यादा अनुभव भी नहीं था। इससे भी काफी जगह चूक हुई।

Powered by Blogger.