REWA : ऐसी कौन सी जगह है जहाँ नए साल में उमड़ रही हज़ारों की भीड़, आखिर क्या देखने आ रहे लोग : पढ़िए


रीवा। महाराजा मार्तण्ड सिंह जूदेव चिडिय़ाघर मुकुंदपुर में जानवरों को देखने शुक्रवार को बड़ी भीड़ उमड़ी। नए साल का पहला दिन होने की वजह से पिकनिक मनाने लोग यहां पर पहुंचे। सायं तक साढ़े बारह हजार से अधिक पर्यटकों ने टिकट खरीदकर प्रवेश किया। लंबे अंतराल के बाद चिडिय़ाघर में इस तरह से भीड़ उमड़ी है। इसके पहले मार्च से कोरोना संक्र्रमण की वजह से करीब तीन महीने तक चिडिय़ाघर और ह्वाइट टाइगर सफारी आम पर्यटकों के लिए बंद रहा।

इसके बाद से खुलता रहा है लेकिन इस तरह से भीड़ नहीं जुटती थी। चिडिय़ाघर प्रबंधन को नए साल की वजह से अधिक पर्यटकों के आने की उम्मीद थी लेनिक बारह हजार से अधिक लोग पहुंचेंगे इसका अनुमान नहीं था। प्रबंधन ने पांच हजार के आसपास लोगों की संख्या होने का अनुमान लगाया था।

इस वजह से अधिक भीड़ आने के कारण अव्यवस्था का भी सामना करना पड़ा। भीड़ इतना अधिक थी कि सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों की धज्जियां उड़ती रहीं। चिडिय़ाघर प्रबंधन ने बेरीकेटिंग कर रखी थी साथ ही जगह-जगह सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने के लिए सूचना बोर्ड भी लगा रखा लेकिन भीड़ ने इस पूरी व्यवस्था को अस्त-व्यस्त कर डाला। सुबह साढ़े नौ बजे से पर्यटकों को प्रवेश देना शुरू कर दिया गया था।

दोपहर एक से तीन बजे के बीच अधिक भीड़ जुटी। सायं साढ़े चार बजे के बाद पर्यटकों का प्रवेश बंद कर दिया जाता है, इसलिए जो लोग भीतर चले गए थे उनके निकलने में करीब घंटे भर से अधिक का अतिरिक्त समय लग गया। पूरे दिन 12771 पर्यटकों ने चिडिय़ाघर में प्रवेश किया।

आठ हजार लोगों ने ह्वाइट टाइगर सफारी का किया भ्रमण
चिडिय़ाघर में प्रवेश लेने के बाद ह्वाइट टाइगर सफारी में करीब आठ हजार की संख्या में लोगों ने प्रवेश कर सफेद बाघों को खुले जंगल में टहलते हुए देखा। यहां पर पर्यटकों से १६ हजार ८०० रुपए की आय हुई। सामान्यतौर पर यहां पर दो ही वाहन सफारी के भीतर चलाए जाते हैं लेकिन नए साल में पूर्व के वर्षों में भी अधिक संख्या में लोग आते रहे हैं। इस कारण तीन अतिरिक्त बसें मंगाई गई थी। जिसकी वजह से पर्यटकों को अधिक समस्या नहीं हुई और वह सहजता से भीतर जाते और निकलते रहे।

चार काउंटर पर्यटकों के लिए खोले गए थे
पर्यटकों की बढ़ती भीड़ को देखते हुए टिकट काटने के लिए चार काउंटर खोले गए थे। १२ हजार ७७१ पर्यटकों से टिकटों की बिक्री, वाहन स्टैंड, टाइगर सफारी में भ्रमण आदि से ४.२९ लाख रुपए का राजस्व वसूला गया। लंबे अंतराल के बाद इस तरह से चिडिय़ाघर की आय हुई है। माना जा रहा है कि नए साल के पूरे पहले सप्ताह में पर्यटकों की संख्या अधिक पहुंचेगी। इसलिए उसके अनुसार भीड़ व्यवस्थित करने के इंतजाम किए जा रहे हैं .
Powered by Blogger.