REWA : छात्रवृत्ति घोटाले में बड़ा खुलासा : कर्मचारियों ने अपने खाते में जमा करा लिए थे 2 करोड़ 10 लाख



रीवा। कलेक्ट्रेट कार्यालय के छात्रवृत्ति शाखा में पदस्थ दो कर्मचारियों को निलंबित कर दिया गया है। इन दोनों सरकारी राशि को अपने खाते में जमा करा लिया था। रीवा कलेक्टर इलैया राजा टी के आदेश पर कार्रवाई की गई है। उसके बाद गबन की कुछ राशि सरकारी खाते में वापस कर दी हई। हालांकि अभी भी दोनों पर 16 लाख रुपये का बकाया है।

दरअसल, 2017 में हुए छात्रवृत्ति घोटाले की 2 करोड़ 10 लाख रुपए की राशि को कलेक्ट्रेट की छात्रवृत्ति शाखा में पदस्थ राम नरेश पटेल और अनिल शर्मा ने सरकारी खाते के बजाए अपने निजी खाते में ट्रांसफर कर लिया था। इसके बाद कलेक्टर ने राशि गबन के संबंध में उच्च स्तरीय जांच कराई थी, इसमें दोनों कर्मचारी दोषी पाए गए थे।

बताया जा रहा है कि वर्ष 2017 से लेकर 2020 के दौरान हुए छात्रवृत्ति घोटाले की जांच में कलेक्ट्रेट के इन दोनों कर्मचारियों का नाम उजागर हुआ था। तब बाबू के पद पर पदस्थ राम नरेश पटेल ने सरकारी खाते में गबन किए गए 1 करोड़ 77 लाख रुपए की राशि को वापस कर दिया था। वहीं, दूसरे कर्मचारी अनिल शर्मा ने भी तकरीबन 33 लाख रुपए अपने निजी खाते में जमा कर लिए थे, जिसमें से 17 लाख रुपए रुपए उन्होंने भी सरकारी खाते में जमा कराए हैं। हालांकि अभी भी 16 लाख रुपए की राशि बकाया है, जिसे जल्द वापस कराने की बात की जा रही है।

Powered by Blogger.