MP-UP की सीमा में आतंक का पर्याय बन चुके डेढ़ लाख के इनामी डकैत भालचंद्र को सतना पुलिस ने किया गिरफ्तार

Telegram

MP-UP की सीमा में आतंक का पर्याय बन चुके डेढ़ लाख के इनामी डकैत गौरी यादव गैंग का हार्डकोर मेंबर भालचंद्र मनरेगा में मजदूरी करते पकड़ा गया। भालचंद्र उर्फ भाईचन्द्र उर्फ भल्ला उर्फ पाड़े यादव को सतना पुलिस ने गिरफ्तार किया है। कुछ दिन पहले सोशल मीडिया में डकैत के मनरेगा में मजदूरी करने की जानकारी वायरल हुई थी, इसके बाद जिला प्रशासन व पुलिस के आला-अधिकारी सक्रिय हुए। यह घटनाक्रम दस्यु उन्मूलन का दम भरने वाली मध्यप्रदेश पुलिस के दावों पर बड़ा सवाल है।

असल में गौरी यादव की बहन मझगवां जनपद पंचायत के अंतर्गत पडमनिया जागीर पंचायत की सरपंच है। इसलिए भालचंद्र को पंचायत की योजना के सभी लाभ मिलते गए। पुलिस रिकॉर्ड में फरार डकैत पंचायत के जॉब कार्ड पर मजदूरी लेता रहा। हकीकत मीडिया में आने पर किरकिरी से बचने के लिए पुलिस ने आनन-फानन में उसे गिरफ्तार कर लिया।

ये है मामला

आरोपी भालचंद्र और डकैत गौरी यादव आपस मे चचेरे साला बहनोई हैं। इसी रिश्तेदारी के चलते आरोपी कई वर्षों से डकैत गौरी यादव के संपर्क में रहता आया है। पडमनिया, साडा, उंचामार, थरपहाड, मलगोसा आदि गांवों में ठेकेदारों का काम, बीड़ी पत्ती, रोड निर्माण, जंगल विभागों के काम आदि चलते तो यह डकैत गौरी यादव को सूचना देता। इसके बाद गौरी ठेकेदारों को डरा-धमका कर काम बंद कराता और फिर काम चालू कराने के नाम पर रंगदारी वसूलता।

ठेकेदारी के एवज में 50 हजार की मांग

21 मई 2020 को आरोपी भालचंद्र यादव ने गौरी यादव गैंग के साथ मिलकर ग्राम जिल्लहा में रात करीब 12-01 बजे सौखीलाल कोरी व अन्य दो लोगों को पकड़ कर जंगल तरफ तालाब में ले जाकर बंदूक के बट व लाठी डंडे से मारपीट की थी। बीड़ी पत्ती तुड़वाने व ठेकेदारी करने के एवज में 50 हजार रुपए की मांग की थी। इस पर थाना मझगवां में केस दर्ज किया गया था। इस मामले में भालचंद्र यादव फरार था। उस पर पांच हजार रुपए का इनाम घोषित था। अन्य मामले में 3 जनवरी 2021 को इसने गौरी यादव गैंग के साथ मिल कर थाना बहिलपुरवा के दादरी जंगल मे वन विभाग के चलने वाले काम को बंद करवा कर वन कर्मचारी के साथ मारपीट कर पैसों की मांग की थी। इस मामले में भी आरोपी की तलाश बहिलपुरवा पुलिस कर रही थी।

Powered by Blogger.