REWA : चुरहट में हुई इंसानी शरीर की दुर्गति : अपनी बेटी के घर जा रहे बुजुर्ग का हुआ एक्सीडेंट, 2 दिन तक कुचलती रहीं गाड़ियां ...

मध्यप्रदेश के रीवा में एक बुजुर्ग की लाश को 2 दिन तक गाड़ियां कुचलती रहीं। चुरहट में हुई इंसानी शरीर की इस दुर्गति की भनक पुलिस की पेट्रोलिंग टीम को भी नहीं लगी। तीसरे दिन सुबह एक राहगीर ने सड़क पर मैले-कुचेले कपड़े देखकर पड़ताल की, तो पाया कि कपड़ों के आसपास मक्खियां भिनभिना रही हैं। कपड़े हटाने पर वहां हड्डियां दिखीं। राहगीर की सूचना पर पुलिस पहुंची और खुलासा हुआ कि ये हड्डियां इंसान की थीं।

बड़ी खबर : सीधी बस हादसे की पड़ताल: ड्राइवर मोबाइल पर बात कर रहा था, एक हाथ ही स्टेयरिंग पर था; स्पीड ब्रेकर पर बस उछली और नहर में जा गिरी

पुलिस के मुताबिक, बुजुर्ग की पहचान सतना जिले के सोनवर्षा गांव में रहने वाले 75 साल के संपतलाल के तौर पर हुई है। वे 17 फरवरी को रीवा जिले के चुरहट में रहने वाली अपनी बेटी के घर जा रहे थे। संपतलाल गांव से ट्रैक्टर पर बैठकर आए। रामनगर से वे बस में सवार हुए। बस से रीवा के शॉर्किन बायपास पर उतरकर पैदल बेटी के गांव जाने लगे। इसी दौरान किसी गाड़ी ने उन्हें टक्कर मारी और कुचलते हुए निकल गई।

पूरी रात और दिन होती रही दुर्गति

कहने को हाईवे पर पुलिस की गश्त होती है, लेकिन घटना के बाद किसी ने उनकी सुध नहीं ली। पूरी रात गाड़ियां बुजुर्ग के शव को कुचलती रहीं। अगली सुबह तक मांस और अंग कुचले जाने के कारण सिर्फ उनके कपड़े, कंबल और हड्डियां बचीं। दूसरे दिन भी गाड़ियां उनके अवशेषों के ऊपर से गुजरती रहीं।

कपड़े में बांधकर लानी पड़ीं हड्डियां

राहगीर की सूचना पर 20 फरवरी को पुलिस मौके पर पहुंची। तब तक लगातार गाड़ियों के नीचे कुचले जाने से हड्डियां भी टुकड़ों में बंट चुकी थीं। हालत ये थी कि इन्हें समेटकर कपड़े में बांधना पड़ा।

परिवार ने कंबल-कपड़ों से की शिनाख्त

घर से निकलने के बाद 2 दिन तक बेटी के यहां न पहुंचने पर संपतलाल के घरवाले उनकी खोज कर रहे थे। पुलिस के पास पहुंचने पर उन्होंने कपड़े और कंबल से उनकी पहचान की। पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए हड्डियों को संजय गांधी अस्पताल भिजवाया है। अब तक बुजुर्ग को टक्कर मारने वाली गाड़ी का पता भी नहीं चल पाया है।

Powered by Blogger.