MP : इकलौते बेटे के सुसाइड के एक महीने बाद खंडवा की महिला गंगा में कूदी, नोट में लिखा- मेरे अंदर हिम्मत नहीं बची

Telegram

मध्यप्रदेश की एक महिला ने उत्तर प्रदेश के वाराणसी में आत्महत्या कर ली। महिला ने गंगा में कूदने से पहले एक सुसाइड नोट भी छोड़ा जिसमें उसने जिक्र किया कि उसके बेटे जैसे अतुल जोशी और खंडवा पुलिस को घटना की सूचना दे दी जाए। महिला के इकलौते बेटे ने एक महीने पहले दिल्ली में सुसाइड कर लिया था जबकि उसके पति की 2005 में मौत हो चुकी है।

मृतक की पहचान खंडवा की रहने वाली माया शर्मा के रूप में हुई। शुक्रवार को मुंशी घाट पर उसने गंगा में कूद कर आत्महत्या कर ली। महिला की बॉडी पुलिस को शीतला घाट पर मिली। बॉडी को मॉर्चुरी में रख दिया गया है। जांच पड़ताल के दौरान महिला जिस होटल में रुकी थी, वहां के कमरे से पुलिस को एक सुसाइड नोट मिला। इसमें लिखा है कि मेरा सामान गंगा में प्रवाहित कर मेरे बेटे जैसे अतुल जोशी को मेरे मोबाइल से फोन करके खबर दे दी जाए। मेरा मोबाइल भी उसी को दे दिया जाए।

सुसाइड नोट में महिला ने अनुरोध किया- पुलिस किसी को परेशान न करे

महिला ने लिखा है, "मेरा सारा सामान गंगा में प्रवाहित कर दीजिएगा। मेरे अंदर हिम्मत नहीं बची थी। खंडवा पुलिस को जरूर सूचना दे दीजिएगा। पुलिस किसी को परेशान न करे। गलती के लिए माफी चाहती हूं।"

पुलिस ने बहन के बेटे अतुल जोशी से किया संपर्क

उधर, शीतला घाट चौकी इंचार्ज राम भवन प्रजापति ने बताया कि महिला के पति अनुपम शर्मा की 2005 में मौत हो चुकी है। जनवरी 2021 में उनके इकलौते बेटे योगी शर्मा ने दिल्ली में आत्महत्या कर ली थी। महिला इंदौर में किसी गर्ल्स हॉस्टल में वार्डन थी। उनके बहन के बेटे अतुल जोशी को सूचना दे दी गई है।

21 फरवरी को काशी आई थी

माया शर्मा 21 फरवरी से लक्ष्मी कुंड इलाके में अन्नपूर्णा आश्रम (होटल) में कमरा लेकर रह रही थीं। सुबह उठ कर वो स्नान कर मंदिरों में दर्शन पूजन को निकल जाती थी। होटल वालों से भी वो मंदिर और धार्मिक स्थलों के बारे में ही पूछती थी। महिला के कमरे से कुछ जरूरी कागजात भी पुलिस को मिले है जिसकी जांच की जा रही है।

Powered by Blogger.