REWA : GST प्रावधानों को लेकर आज रीवा दिखा बंद : ये थी व्यापारियों की मांग

Telegram

रीवा। कंफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) एवं रेवांचल चेंबर ऑफ कॉमर्स सहित रीवा की सभी प्रमुख व्यापारी संस्थाओं द्वारा जीएसटी में व्याप्त जटिल प्रावधानों के खिलाफ ई-कॉमर्स के खिलाफ एवं फूड सेफ्टी स्टैंडर्ड एक्ट के जटिल एवं विसंगति पूर्ण प्रावधानों के खिलाफ शनिवार 26 फरवरी को भारत बंद के साथ ही रीवा व्यापार भी पूर्णतया बंद रहा.

व्यापारी संगठन के नेता चेंबर ऑफ कॉमर्स के अध्यक्ष राजेंद्र शर्मा, कैट के प्रदेश उपाध्यक्ष महेश ठारवानी, चेंबर के उपाध्यक्ष गुलशन चड्ढा सर्राफा संघ के अध्यक्ष सुधीर सोनी सचिव मानिक लाल सोनी रीवा कैट के अध्यक्ष अमरजीत सिंह लक्की,युवा व्यापारी संघ के अध्यक्ष प्रणत कनोडिया रीवा व्यापारी महासंघ के अध्यक्ष महेश हिरवानी सीए प्रशांत जैन, ओपी गुप्ता टैक्स बार एसोसिएशन के अध्यक्ष सूर्यकांत मिश्रा, मनीष मलूकानी अमित कोहली मनजीत दुग्गल गल्ला व्यापारी संघ के कमलेश गुप्ता, राजकुमार गुप्ता किराना व्यापारी संघ से संजय गुप्ता महेश गुप्ता बस ओनर एसोसिएशन के अध्यक्ष प्रहलाद सिंह सचिव प्रमोद सिंह ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन से लल्लन खान आदि ने कहा कि केंद्र सरकार ने मंहगाई कम करने जीएसटी कानून बनाया लेकिन मंहगाई कम नही और अधिक बढ़ गई यही नही ब्यापारी भी परेशान व प्रताड़ित हो रहा है। लगातार ब्यापारी संगठन सरकार से जीएसटी के नए प्रावधानों को भारत के ब्यापार को बचाने हटाने की मांग कर रहे हैं किंतु सरकार ब्यापारियों की मांग को नजर अंदाज कर रही है जिस कारण कैट के आह्वान पर 26 फरवरी को भारत बंद करने निर्णय लिया गया था.


इसी परिपेक्ष्य में रीवा के सभी ब्यापारी संगठनों ने सर्वसम्मति से रीबा बन्द की घोषणा की थी आज रीवा का पूरा व्यापार पूरी तरह से बंद था जिसके लिए जिले के (confederation of all India traders Rewa)


(Rewanchal Chamber of Commerce) रीवा किराना व्यापारी संघ गल्ला व्यापारी संघ ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन सर्राफा मंडल ज्वेलर्स एसोसिएशन टैक्स बार एसोसिएशन जिला अधिवक्ता संघ मोबाइल एसोसिएशन ज्वेलर्स एसोसिएशन मोटर पार्ट्स एसोसिएशन संयुक्त किसान मोर्चा आदि नए व्यापारियों का आभार व्यक्त किया है।

Powered by Blogger.