REWA : अफसरों की अनदेखी : यात्रियों की सुरक्षा से खिलवाड़, आपातकालीन खिडक़ी के सामने सीट लगाकर ढो रहे सवारी

रीवा. सीधी बस हादसे में मारे गए यात्रियों का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है। बावजूद जिले के जिम्मेदार हादसे से सबक नहीं ले रहे। अफसरों की अनदेखी के चलते तीसरे दिन गुरुवार को भी बसें नियम-कायदे को दरकिनार कर दौड़ती रहीं। सरदार पटेल अंतरराज्यीय व रेवांचल बस स्टैंड पर अधिकांश बसों में नई गाइड लाइन के पांच साल बीतने के बाद भी आपातकालीन खिडक़ी के सामने सीट लगाकर यात्रियों को बैठाया जा रहा है। कुछ छोटी बसों में खिलड़ी लगा दी गई है और सीट भी हटा ली है। लेकिन, वहां पर लगेज रख दिया है।

दिव्यांगों के लिए आरक्षित सीटों पर बुकिंग

नए बस स्टैंड पर तिवारी बस (एमपी-53पी-0844) के आगे बोर्ड पर मड़वास, बुड़वा, मझौली, सीधी की ओर जाने वाले यात्रियों को टिकट दे रहा था। बस के भीतर दर्जनभर सवारियों बैठी थीं। दिव्यांगों को आरक्षित सीट नंबर एक से पांच तक सामान्य लोगों को बैठाया गया था। पिछले चक्का में बाएं साइट का टायर में गोटी तक नहीं थी, खलासी टायर के नटवोल्ट को कस रहा था। पूछने पर खलासी ने बताया कि नट कसे जा रहे हैं। टायर की गोटियां घिस की गई हैं। जल्द ही मालिक ने बदलने के लिए बोला है। ठीक वाला टायर पंक्चर हो गया है।

सेमरिया, सिरमौर मार्ग बिना नंबर दौड़ रहीं बसें

रेवांचल बस पर सतना, मैहर, कटनी, जबलपुर, पन्ना, छतरपुर सहित अन्य जिले के लिए बसें रवाना हो रही हैं। पुराने बस स्टैंड से सेमरिया, त्योथर, सिरमौर, जवा सहित अन्य ग्रामीण क्षेत्र को जाने वाली बसें कई बसें बिना नंबर के दौड़ रहीं हैं। नंबर प्लेट पर नंबर तक दर्ज हैं। बस के अगले व पिछले हिस्से में नंबर नहीं था। बोर्ड पर लगा था रीवा से चाकघाट, हिनौती आदि जगहों पर लिखा हुआ था। फिटनेश की बात तो दूर बस बाहर से कबाड़ लग रही है। हैरानी की बात तो यह कि ऐसी बसों को पुराने बस स्टैंड से डभौरा तक चलने के लिए परमिट दिया गया है। जो 75 किमी से अधिक दूरी है। ज्यादातर बसों को रुट डायवर्जन का खेल चल रहा है।

बिना ड्रेस परिचालक व खलासी

जिले में कुछ बस चालको व परिचालको को छोड़ दिया जाए तो अधिकतर बसों के चालक व खलासी बिना ड्रेस व नेमप्लेट के रहते हैं। गुरुवार दोपहर भी ज्यादातर बसों के चालव, परिचालक व खलासियों की यही हाल रही।


लेटेस्ट न्यूज़ से अपडेट रहने के लिए REWA NEWS MEDIA फेसबुक पेज लाइक करें

Powered by Blogger.