MP : दिग्विजय सिंह का बिगड़ चुका है मानसिक संतुलन, कमलनाथ सरकार गिराने में दिया था सहयोग: MLA अशोक रोहाणी

जबलपुर। दिग्विजय सिंह का मानसिक संतुलन बिगड़ चुका है। अपना अस्तित्व बचाने और चर्चाओं में रहने के लिए विवादित बयान देते रहते हैं, ये कहना है जबलपुर की कैंट विधानसभा के भाजपा विधायक अशोक रोहाणी का। दरअसल अशोक रोहाणी ने दिग्विजय सिंह के ईवीएम को लेकर किए गए उस ट्वीट पर पलटवार करते पलटवार किया।

दिग्विजय सिंह ने अपने ट्वीट में ईवीएम पर सवाल खड़े करते हुए कहा था कि कहानियों में जैसे सुना था कि राक्षस की जान एक तोते में होती है, वैसे ही बीजेपी की जान ईवीएम में है। दिग्विजय सिंह के इस विवादित ट्वीट के बाद भाजपा दिग्विजय सिंह और कांग्रेस पर हमलावर हो गई है।

इसी मामले में जबलपुर कैंट के भाजपा विधायक अशोक रोहाणी ने दिग्विजय सिंह पर निशाना साधते हुए कहा कि दिग्विजय सिंह का मानसिक संतुलन बिगड़ चुका है। अपना अस्तित्व बचाने और चर्चाओं में रहने के लिए समय समय पर विवादित बयान देते रहते है। इतना ही नहीं अशोक रोहाणी ने दिग्विजय सिंह पर आरोप लगाते हुए कहा कि प्रदेश में कांग्रेस की लुटिया डुबोने वाले दिग्विजय सिंह है और समय समय ये कांग्रेस की लुटिया डुबोने का काम करते हैं।

इसके साथ ही अशोक रोहाणी ने कमलनाथ सरकार गिराने में दिग्विजय सिंह का योगदान होने का भी आरोप मढ़ दिया। देश और प्रदेश में कांग्रेस मुक्त करने में भाजपा को सहयोग करने के आरोप भी दिग्विजय सिंह पर लगाए। साथ ही अशोक रोहाणी ने दिग्विजय सिंह से पूछा कि साल 2018 में ईवीएम ने प्रदेश में कांग्रेस की 15 माह की सरकार बनाई थी। इसी ईवीएम से उपचुनाव में भी कांग्रेस ने सीटें जीती है, ये क्या ईवीएम की गड़बड़ी थी।

दमोह उपचुनाव में भाजपा की जीत का दावा करते हुए दमोह में आज होने वाले पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के दौरे पर कहा कि कांग्रेस के पास अपना अस्तित्व बचाने के लिए कांग्रेस की सीट बची है। कमलनाथ कांग्रेस की बिगड़ती स्तिथि को सुधारने का काम कर रहे हैं।

Powered by Blogger.