REWA : प्रभारियों के भरोसे शिक्षा व्यवस्था : लापरवाही के चलते स्कूलो में शिक्षकीय व्यवस्था भी कंमजोर

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

जिले के अंदर 8 ऐसे विकासखण्ड जहां स्थायी रूप से विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी नहीं है। क्षेत्रीय प्रचार्यो को इसका प्रभारी बनाया गया है। इससे न केवल संबधित कार्यालयीन व्यवस्था कमजोर है। बल्कि स्कूलो में शिक्षकीय व्यावस्था कंमजोर हो रही है। तो वही इससे स्कूलों की गतिविधिया भी प्रभावित हो रही है। फिर भी इस दिशा में उच्च स्तर से कोई कदम नही उठाया जा रहा है। 

सबसे बड़ी बात यह है कि करीब 3 वर्ष मे कई विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी रिटार्यड हो चुके है। उनके पदो की पूर्ति विभाग की ओर से नही की गई है। रिक्त पड़े उक्त पदो पर क्षेत्रीय प्राचार्यो को प्रभार दिया गया है। इतना ही नही न्यायालय में मामला अटका रहने के कारण शिक्षा विभाग में पदोन्निा्‌त नहीं हो पा रही है। जिसे कारण बीईओ समेत तमाम पद खाली पढ़े हुए है। ऐसे में प्रभारी अधिकारी से काम चलाया जा रहा है और तो और करीब 3 वर्ष पूर्व प्रदेश सरकार के निर्णय के अनुसार प्रदेश भर में राज्य शिक्षा सेवा लागू किया जाना था। जिसके तहत बीइओ के पद पर सहायक संचालक स्तर के अधिकारी का पदस्थ किया जाना था। लेकिन यह घोषणा अमल पर नही आयी। जिसके चलते ब्लाक स्तर पर शिक्षा अधिकारियो की जगह प्रभारी काम कर रहें।

गंगेव में बीईओ,शेष में प्रभारी अधिकारी

जिले के रीवा, रायपुर कर्चुलियान, त्योथर, जवा, मउगंज, सिरमौर, नईगढ़ी और हनुमना में विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी की नियुक्ति नही हो पाई, अलबत्ता यहां उत्कृष्ट स्कूलो के प्राचार्य को बीईओ का प्रभार दिया गया है। ऐसे में शिक्षकीय और कार्यालीन कार्य किस तरह का चल रहा है, इसका अंदाजा आसानी से लगाया जा सकता हैं। एक-एक स्टाप को दो-दो प्रभार दिया जाना नियमानुसार गलत है। जिले का हनुमना ऐसा विकास खण्ड है, जंहा स्थायी बीईआ काम कर रहे हैं। शेष कार्यालय प्रभार की बैशाखी पर हैं।

प्रभार पर प्रभार

जिले के अंदर जिन विकासखण्डो में स्थायी ब्लाक शिक्षा आधिकारी पदस्थ नही है। यहां उत्कृष्ट स्कूल के प्रार्चायो को जिम्मेदारी सौपी गई है, लेकिन दुर्भाग्य की बात यह है कि बिना किसी लिखित आदेश के संबधित विकास खण्ड शिक्षा अधिकारी अपनी ओर से अन्य प्राध्यापको को प्रभारी बनाऐ हुए हैं।

Powered by Blogger.