MP : JEE MAINS में इंदौर के अंतरिक्ष गुप्ता प्रदेश में रहें अव्वल : ऐसी रही सफलता की कहानी

Telegram

इंदौर। ज्वाइंट एंट्रेंस एक्जामिनेशन (जेईई) मेन के परिणाम सोमवार शाम जारी हुए। इसमें शहर के अंतरिक्ष गुप्ता प्रदेश में अव्वल रहे। अंतरिक्ष को 99.99 पर्सेंटाइल मिले हैं। उनका सपना आइआइटी मुंबई से बीटेक करना है। अपनी सफलता का श्रेय अंतरिक्ष ने परिवार को दिया। फरवरी में हुई जेईई मेन में एसटी श्रेणी की टापर लिस्ट में प्रदेश के वेदांश बंसल ने जगह बनाई है। उन्हें 99.90 पर्सेंटाइल मिले हैं। पीडब्लूडी केटेगरी की आल इंडिया लिस्ट में प्रदेश के अथर्व क्षीरसागर ने भी जगह बनाई है। उन्हें 99.33 पर्सेंटाइल प्राप्त हुए हैं। देश में छह छात्रों ने सौ पर्सेंटाइल हासिल किया है। इनमें दो दिल्ली के हैं, जबकि एक-एक चंडीगढ़, राजस्थान, गुजरात और महाराष्ट्र के है। अलग अलग राज्यों और केंद्र शासित क्षेत्रों के कुल 41 छात्रों को टॉपर घोषित किया गया है। जेईई मेन के लिए कुल 6.52 लाख छात्रों ने अपना रजिस्ट्रेशन कराया था।

कोरोना काल के दौरान घर में कैद होकर पढ़ाई करना पड़ी

अंतरिक्ष ने बताया कि जेईई की तैयारी करने में माता-पिता के साथ ही बहन ने भी मार्गदर्शन दिया। जेईई मेन में प्रदेश टापर रहे अंतरिक्ष गुप्ता शहर के माणिकबाग क्षेत्र में रहते हैं। उनका कहना है कि कोरोना महामारी के कारण पूरे समय घर में कैद होकर पढ़ाई करनी पड़ी। इस बीच न दोस्तों से मिल पाए और न शिक्षकों से। इस बीच परिवार के सदस्यों से भावनात्मक रूप से बहुत सहयोग दिया। पिता लखनलाल गुप्ता चोइथराम स्कूल माणिकबाग में गणित विषय के शिक्षक हैं और माता अर्पणा गुप्ता सरकारी स्कूल में पढ़ाती हैं। बहन आस्था गुप्ता कालेज में हैं। तीनों ने तैयारी करने में मदद की। अंतरिक्ष 15 मार्च को होने जा रहे जेईई मेन के दूसरे चरण में भी शामिल होंगे। साथ ही वे 12वीं बोर्ड की परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं।

अंतरिक्ष का कहना है कि मैं पढ़ाई को बोझ की तरह नहीं लेता हूं। जब भी पढ़ने का मन करता है, तैयारी में जुट जाता हूं। अंतरिक्ष का सपना आइआइटी मुंबई से बीटेक करना है। कौन सी ब्रांच लेंगे, अभी तय नहीं किया है। अंतरिक्ष ने बताया कि कोरोना महामारी के बीच हुई परीक्षा में सुरक्षा के अच्छे इंतजाम थे। इसलिए उनके मन में परीक्षा को लेकर कोई डर नहीं था। परीक्षा में गणित के सवाल थोड़े कठिन लगे थे। केमिस्ट्री के भी एक-दो सवाल का जवाब देने से रह गया था। उन्होंने बताया कि कई बार परीक्षा के दौरान कई सवालों के जवाब हमें पता होते हैं, लेकिन घबराहट के कारण सवालों के जवाब देने से रह जाते हैं। इसके लिए जरूरी है कि दिमाग को शांत रखें और एक-एक कर सवालों के जवाब दें।

विद्यार्थियों के पास तीन मौके और : परीक्षा विशेषज्ञ विजित जैन का कहना है कि परिणाम बेहतर रहे हैं। शहर से 99 पर्सेंटाइल से ज्यादा स्कोर लाने वाले 100 से ज्यादा विद्यार्थी हैं।

सर्वर पर लोड बढ़ने से हुई परेशानी : परिणाम आने का विद्यार्थी सात मार्च से इंतजार कर रहे थे। सोमवार शाम को काफी देर तक एनटीए (नेशनल टेस्टिंग एजेंसी) की वेबसाइट के सर्वर पर लोड बढ़ने से कई विद्यार्थी परिणाम नहीं देख पाए। साल में चार बार जेईई मेन होगी। फरवरी के बाद मार्च में भी परीक्षा होगी। इनमें से जिस परीक्षा में विद्यार्थी के परिणाम बेहतर होंगे, उसी आधार पर जेईई एडवांस में विद्यार्थियों को बैठने का मौका मिलेगा। जिन विद्यार्थियों को पहले चरण की परीक्षा में कम पर्सेंटाइल मिले हैं, वे तनाव नहीं लें।

वेदांश बंसल प्रदेश में रहे अजजा श्रेणी में अव्वल

एसटी केटेगरी की टापर लिस्ट में प्रदेश के वेदांश बंसल ने जगह बनाई है। उन्हें 99.90 पर्सेंटाइल मिले हैं। पीडब्लूडी केटेगरी की आल इंडिया सूची में प्रदेश के अथर्व क्षीरसागर ने जगह बनाई है। उन्हें 99.33 पर्सेंटाइल मिले हैं। सोमवार देर शाम तक मिली जानकारी के अनुसार 99.93 पर्सेंटाइल पर गौरव शर्मा, 99.9 पर्सेंटाइल पर आदित्य जैन और गर्ल्स में मानसी सोडानी को 99.90 पर्सेंटाइल मिले हैं। 99 पर्सेंटाइल से ज्यादा स्कोर बनाने वाले शहर से 100 से ज्यादा विद्यार्थी हैं।

Powered by Blogger.