MP : कोरोना की दूसरी लहर पर जनता को लापरवाही पड़ेगी भारी, मास्क और शारीरिक दूरी नहीं रखी तो और बढ़ेंगे मरीज

भोपाल। भोपाल में पिछले तीन दिन में कोरोना के 591 मरीज मिल चुके हैं। रविवार को 199, सोमवार को 196 और मंगलवार को 196 मरीज मिले। मरीज बढ़ने की वजह यह है कि बाजार, पार्क आदि में भीड़ उमड़ रही है, लेकिन लोग न तो शारीरिक दूरी का पालन कर रहे हैं और न ही मास्क लगा रहे हैं। 'नवदुनिया' की टीम ने शहर के प्रमुख स्थानों का जायजा लिया तो हर जगह लोगों की लापरवाही सामने आई।

हमीदिया अस्पताल के छाती व श्वास रोग विभाग के सह प्राध्यापक डॉ.पराग शर्मा ने कहा कि सभी लोग मास्क लगाएं तो कोरोना से 99 फीसद तक बचाव हो सकता है, लेकिन लोगों ने यह मान लिया है कोरोना अब नहीं है।

लखेरापुरा, चौक व सराफा ज्यादातर लोग बिना मास्क के

दोपहर 3 बजे। तंग तलियों में बसे लखेरापुरा के कपड़ा बाजार में भीड़ तो थी, लेकिन कोरोना संक्रमण के बचाव को लेकर ग्राहक-व्यापारी दोनों ही लापरवाही बरतते हुए नजर आए। चौक व सराफा बाजार में भी ऐसे ही नजारे दिखाई दिए। यहां करीब 60 फीसद लोग बिना मास्क के थे। मारवाड़ी गली, कोतवाली रोड, जनकपुरी, मंगलवारा आदि क्षेत्रों में भी यही स्थिति रही।

न्यू मार्केट : मास्क व शारीरिक दूरी में लापरवाही

राजधानी के प्रमुख बाजार न्यू मार्केट में ग्राहक मास्क व शारीरिक दूरी को लेकर लापरवाही बरतते हुए नजर आए। दोपहर 3.30 बजे दुकानों पर ग्राहकों की भीड़ थी, पर इनमें से अधिकांश ऐसे लोग थे, जो बिना मास्क के थे। बच्चों से लेकर बड़े तक लापरवाही दिखा रहे थे। शाम को भीड़ बढ़ गई, पर अधिकांश लोग बिना मास्क के ही घूमते रहे।

लंबी दूरी की बसें खाली

स्थान- आइएसबीटी हबीबगंज। समय- शाम 5.45 बजे। बकतरा जाने वाली बस दो मिनट बाद छूटने वाली है। इसमें सामने की सीटों पर यात्री बैठे हैं, पीछे की सीटें खाली हैं। जो बैठे हैं, उनमें से आधे लोगों ने मास्क लगाया है। टिकट काटने वाले कंडक्टर के मुंह पर मास्क नहीं है। वह तेज आवाज में यात्रियों को बस में बैठने को कह रहा है। नीचे खड़े एजेंट का तर्क है कि लॉकडाउन की अफवाह के चलते आठ दिन से सवारी नहीं मिल रही है।

लोकल बसों में कोरोना का भय नही

स्थान- हबीबगंज रेलवे स्टेशन के सामने। समय- शाम 6.12 बजे।

नीले रंग की मिनी बस नादरा बस स्टैंड से मंडीदीप जा रही है। हबीबगंज रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म-पांच की तरफ सवारी बैठाने के लिए खड़ी है। बस की सभी सीटों पर यात्री बैठे हैं, लेकिन 75 फीसद ने मास्क नहीं लगाया है। टिकट काटने, यात्रियों से नकद लेन-देन करने वाले एजेंट में भी कोरोना संक्रमण का भय नहीं है। सामने बैठा ड्राइवर जरूर मास्क पहने है। बाजू से लो फ्लोर बसें गुजर रही हैं उसमें अच्छी भीड़ है।

जनशताब्दी में आधे यात्री समझदार, बाकी को चिंता नहीं

स्थान- हबीबगंज रेलवे स्टेशन का प्लेटफॉर्म-पांच, समय शाम 5.12 बजे। जनशताब्दी स्पेशल एक्सप्रेस जबलपुर जाने के लिए तैयार है। सभी बोगियों में करीब 75 फीसद यात्री सवार हो चुके हैं। आधे यात्री तो मास्क पहने हुए हैं बाकी को चिंता नहीं है। वह बेखौफ, बिना मास्क के बैठे हैं। एक-दूसरे से बात कर रहे हैं। इतने में ट्रेन के चलने की उद्धघोषणा होती है। ठीक शाम 5.40 बजे ट्रेन रवाना होने लगती है। कुछ यात्री दौड़ते हुए कोच में चढ़ते हैं।


दुकानदारों के चेहरे पर मास्क नहीं

स्थान- कस्तूरबा सब्जी हाट बाजार, हबीबगंज। समय- शाम 6.30 बजे। दुकानदारों का शोर है। ग्राहकों की भीड़ भी बढ़ने लगी है। दुकानदारों के मुंह पर न तो मास्क है न दुकान में सैनिटाइजर की बोतलें। दुकानदार कई ग्राहकों से रुपयों का लेन-देन कर रहे हैं लेकिन एक भी बार हाथों को सैनिटाइज नहीं कर रहे हैं। पांच फीसद दुकानदारों के पास भी भुगतान की ऑनलाइन व्यवस्था नहीं है। ग्राहकों में थोड़ी जागरुकता है। ज्यादातर मास्क लगाकर सब्जी खरीदने आए हैं। कुछ ऐसे भी हैं जिन्हें देखकर नहीं लगता कि कोरोना नामक कोई बीमारी भी है।

Powered by Blogger.