SATNA : बेकाबू हो रहा कोरोना : फिर आ रहे घातक परिणाम, सतना के युवक की मुंबई में कोरोना से मौत

       

सतना. कोरोना अपने पूरे शबाब पर  है और कहर बरपाने लगा है। सतना के लिए एक बार फिर घातक परिणाम आने लगे हैं। मुंबई में काम करने वाले एक युवक की मौत कोरोना से हो गई है। मृतक सतना जिले के कोठी क्षेत्र में आने वाले मौहार गांव का मूल निवासी बताया जा रहा है। खबरों के अनुसार मृतक युवक पेशे से इंजीनियर बताया जा रहा है पर इसकी अधिकारिक पुष्टि नहीं है। हालांकि मौत कोरोना के जहर से ही हुई है। अब इस मौत के बाद कोरोना से सतना के मरने वालों की तादाद  89 हो चुकी है। वहीं मौत भले ही महाराष्ट्र में हुई हो पर सतना में भी वायरस का असर कम नहीं है। परिणाम रोजाना खतरनाक आ रहे हैं और बीते तीन दिनों तकरीबन 50 मरीज कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं। शुक्रवार को सतना में जिले भर से आई जानकारी के अनुसार 15 नए मरीज पॉजिटिव आए हैं।

अलर्ट हुआ स्वास्थ्य विभाग

शुक्रवार को जिला प्रशासन की ओर से एक समाचार आया कि नवंबर के बाद से सतना में कोरोना से कोई मौत नहीं हुई पर साल 2021 की शुरुआत के बाद ही तीन मौत हो चुकी हैं । हालांकि सतना से जारी होने वाले हेल्थ बुलेटिन में ऐसी कोई जानकारी नहीं दी जा रही है। शुक्रवार को मुंबई में भले ही युवक की मौत हुई है पर वो सतना का ही है। अब तक  की जानकारी के अनुसार सतना में 89 की जान जा चुकी है। वहीं मौत की खबर के बाद स्वास्थ्य विभाग अलर्ट हो चुका है। दरअसल खबर आई कि मृतक की डेड बॉडी जिले के कोठी क्षेत्र में शुक्रवार-शनिवार की देर रात पहुंचना है। हालांकि समाचार लिखे जाने तक बॉडी कोठी नहीं पहुंची थी। इधर हड़कंप इस बात को लेकर भी है कि मृतक के संस्कार में शामिल होने वालों को भी संक्रमण का खतरा हो सकता है।

ऐसे आए संक्रमण के मरीज

कोरोना वायरस का संक्रमण सतना में अब तेजी के साथ फैल रहा है। शुक्रवार को हुई जांच के बाद 15 मरीज सामने आए हैं। जिसमें जिला अस्पताल में 6, टिकुरिया टोला में 3 और मैहर में 3 मरीज मिले तो जब आरटीपीसीआर की रिपोर्ट आई तो उसमें भी तीन संक्रमित सतना के खाते में सामने आए हैं। अब इन संक्रमितों को जोड़ दे तो 50 से अधिक जीवित वायरस के मरीज हैं। वहीं सतना में अभी भी जांच की रफ्तार नहीं बढ़ी है और वायरस की रफ्तार लगातार बढ़ रही है।

हॉट स्पॉट भोपाल से आने वाली रेवांचल के वायरस की कौन करेगा जांच

रेल से यात्रा कर सतना पहुचंने वाले यात्रियों की कोरोना की जांच के लिए रेलवे स्टेशन में स्क्रीनिंग की जाएगी। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने इसके लिए स्वास्थ्य अमले की ड्यूटी लगाई है। कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए यह फैसला लिया गया है और स्क्रीनिंग के इंतजाम स्वास्थ्य विभाग द्वारा कराए जाएंगे जो सुबह से शाम तक होगी रात में नहीं। अब तक रात में कोरोना की थर्मल स्क्रीनिंग के कोई इंतजाम नहीं है। अब बड़ा सवाल ये है कि इन दिनों एमपी में भोपाल बड़ा हॉट स्पॉट है और वहां से आने वाली रेवांचल एक्सप्रेस से सतना में उतरने वाले यात्रियों की जांच कौन करेगा...? इधर शुक्रवार को स्वास्थ्य विभाग की टीम पहुंची तो स्टेशन में कोई इंतजाम बैठने तक के नहीं थे लिहाजा वापस लौट आए।

सुबह 6 बजे आती है रेवांचल

मध्यप्रदेश में भोपाल हो चाहे इंदौर अब ये कोरोना के लिए हॉट स्पॉट से कम नहीं है। सतना और भोपाल को सीधे तौर पर जोड़ने वाली यात्री गाड़ी रेवांचल है और रेवांचल भोपाल से सतना सुबह 6 से साढ़े 6 के बीच पहुंचती है। इस समय पर यात्रियों की स्क्रीनिंग करने के कोई इंतजाम न रेलवे के पास हैं और न ही जिला प्रशासन की ओर से किए गए हैं। इसी प्रकार इंदौर-रीवा एक्सप्रेस भी प्रदेश में हाटस्पाट बने इंदौर को सतना से सीधे जोड़ती है जिसके यात्री भी बिना किसी जांच के शहर में प्रवेश करते हैं। सीएमएचओ के आदेश में स्क्रीनिंग के लिए जो अमला तैनात किया गया है वो अमला सुबह 8 से देर शाम 8 बजे तक यात्रियों की स्क्रीनिंग करेगा। इसके पहले न इसके बाद के कोई इंतजाम नहीं है।

रात में मुंबई से आती हैं गाड़ियां

सुबह 8 से देर शाम 8 बजे तक तो यात्री गाड़ियों से आने वाले पैसेजरों की कोरोना जांच के लिए स्क्रीनिंग के इंतजाम किए गए हैं पर न तो रेवांचल के लिए है और न रात में आने वाली गाड़ियों से उतरने वाले यात्रियों के। कोरोना का कहर महाराष्टÑ में भी कम नहीं है और रात में मुंबई से गाड़ियां ज्यादा आती हैं। जहां वायरस का संक्रमण है और जिस समय पर ये गाड़ियों आती है उस समय स्क्रीनिंग के कोई सार्थक प्रयास नहीं है ऐसे में सुबह-शाम की जांच से बेहतर परिणाम नहीं निकलेंगे।

Powered by Blogger.