MP : भोपाल में अब तक 874 कोरोना मरीजों की मौत, प्रशासन का दावा सिर्फ 640 की मृत्यु हुई

Telegram

भोपाल। सरकार द्वारा जारी किए गए हेल्थ बुलेटिन में कोरा झूठ परोसा जा रहा है। बुलेटिन के हिसाब से मार्च 2020 से छह अप्रैल 2021 तक भोपाल में करीब 640 कोरोना संक्रमितों की मौत हुई है। जबकि श्मशान घाट के रजिस्टर पलटाने में एक बड़ा खुलासा हुआ है। कोरोना संक्रमण से सिर्फ भोपाल जिले के 874 मरीजों की मौत हो चुकी है। इस तरह 234 मौत का आंकड़ा सरकार छिपा रही है। सवाल यह है कि कोरोना पॉजिटिव मरीजों की मौत पर इतनी बड़ी गफलत क्यों की जा रही है।

इधर, राजधानी में मंगलवार को भदभदा विश्राम घाट में 18 कोविड पॉजिटिव मरीजों के शव अंतिम संस्कार के लिए भेजे गए। वहीं, झद्दा कब्रस्तान में एक। इस तरह मंगलवार को कुल 19 कोरोना मरीजों की मौत राजधानी में हुई। बावजूद इसके सरकार द्वारा जारी किया गया बुलेटिन शहर में दो ही मौत होने का दावा कर रहा है। हैरत की बात तो यह है कि भदभदा विश्राम घाट में जिन संक्रमित मरीजों की मृत्यु के बाद अंतिम संस्कार किया गया, उसमें से 11 शव भोपाल के ही थे।

हर दिन खर्च हो जाती है 90 क्विंटल लकड़ी

यहां साफ-सफाई का अभाव है। शमशान घाट प्रबंधन की तरफ से तो जितना हो सकता है सावधानी बरती जा रही है, लेकिन जिला प्रशासन और नगर निगम के अफसर मौन हैं। हैरत तो तब हुई जब लकड़ी की समस्या बताने पर महज एक ट्रक यानी 120 क्विंटल लकड़ी ही मंगलवार को उपलब्ध कराई गई। जिसमें से 90 क्विंटल लकड़ी मंगलवार को हुए 18 कोरोना पॉजिटिव और छह सामान्य लोगों के शव के अंतिम संस्कार में खर्च हो गई।

जर्जर व खुले कचरे के डिब्बे में ठूंसी जाती हैं पीपीई किट

श्मशान घाटों में हर दिन कोरोना संक्रमितों के शव जलाए जाते हैं। फिर भी यहां सैनिटाइजेशन नहीं हो रहा। आलम यह है कि दाहक्रिया के बाद निगम कर्मियों द्वारा उतारी गईं पीपीई किट जर्जर व खुले हुए कचरे के डिब्बे में लकड़ी से ठूंस-ठूंसकर भरी जा रही हैं। ये किट नष्ट नहीं की जा रही हैं, जिनसे कोरोना संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ रहा है।

हमारे यहां हर दिन 18 से 20 कोरोना पॉजिटिव मरीजों के शव का अंतिम संस्कार किया जाता है। ऐसे में जर्जर कचरे का डिब्बा दिया गया है, जो कभी भी टूट-फूट सकता है। हर दिन पीपीई किट भी नहीं उठवाई जाती हैं। साफ-सफाई भी नहीं हो पा रही है, जिससे संक्रमण फैलने का खतरा रहता है। नगर निगम को हर दिन किसी एक समय में श्मशानघाट का सैनिटाइजेशन करवाना चाहिए।

अरुण चौधरी, अध्यक्ष, भदभदा विश्राम घाट समिति

झद्दा कब्रस्तान में मार्च से लेकर अब तक 220 पॉजिटिव मरीजों के शव का अंतिम संस्कार किया गया है। इसमें से अधिकांश भोपाल के ही निवासी थे। पुलिस द्वारा जानकारी मांगी गई है। इसकी जानकारी बनाकर भेजी जा रही है।

रेहान अहमद गोल्डन, अध्यक्ष, भोपाल वक्फ कब्रस्तान कबेलू घर कमेटी, झद्दा

Powered by Blogger.