REWA : बड़ी सफलता : लॉकडाउन में बेंचने के लिए मंगवाया था लाखों रुपयों की नशीली सिरप का जखीरा, तीन आरोपी गिरफ्तार

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें


रीवा। घर से पुलिस ने नशीली सिरप का जखीरा बरामद किया है। लाखों रुपए कीमत की करीब एक ट्रक नशीली सिरप बरामद हुई है। तस्करी के कारोबार में लगे तीन आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है जो पूरे जिले में नशे कारोबार फेलाने वाले थे।

आरोपियों से चल रही पूछताछ

पकड़े गए आरोपियों से पूछताछ कर पुलिस कारोबार में शामिल अन्य लोगों के संबंध में जानकारियां जुटा रही हे। विवि थाने के इटौरा बाईपास स्थित मकान में नशीली सिरप की खेप उतरने की सूचना पुलिस को मिली थी। पुलिस अधीक्षक राकेश कुमार सिंंह आधा दर्जन टीमें गठित कर दी। योजना बनाकर पुलिस ने घर में दबिश दी। दरवाजा तोड़कर पुलिस अंदर दाखिल हुई तो वहा का नजारा देखकर पुलिस के पैरों तले से जमीन खिसक गई। एक ट्रक नशीली सिरप रखी हुई थी। पुलिस ने तत्काल स्थानीय लोगों से पूछताछ कर तीन आरोपियों की पहचान की। पुलिस ने उनको संभलने तक का मौका नहीं दिया और तीनों को गिरफ्तार कर लिया। पकड़े गए।

ये आरोपी गिरफ्तार

आरोपियों में दीपक सिंह पिता वीरेश सिंह निवासी तिलक नगर, सागर खान पिता सालेन्द्र खान निवासी बैकुंठपुर, सुनील द्विवेदी पिता संतोष निवासी बोदाबाग शामिल है। पुलिस ने घर की तलाशी ली तो 129 पेटी नशीली सिरप बरामद हुई जिसकी अनुमानित कीमत 18.50 लाख रुपए है। तीनों आरोपियों के खिलाफ पुलिस ने एनडीपीएस एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया है। वहीं आरोपियों से पूछताछ कर तस्करी में शामिल अन्य लोगों के संबंध में जानकारियां जुटा रही है।

लॉक डाउन में बेंचने के लिए मंगवाया था जखीरा

पकड़े गए आरोपी लॉक डाउन में मुनाफा कमाने के लिए नशीली सिरप का जखीरा मंगवाए थे। दरअसल इस समय कोरोना काफी तेजी से फैल रहा है और आरोपियों को उम्मीद थी कि जल्द लॉक डाउन लग जायेगा। लॉक डाउन में नशीली सिरप की आवक कम हो जाती है और उसकी कीमत चार से पांच गुना बढ़ जाती है। गत वर्ष लॉक डाउन में नशीली सिरप 500 रुपए तक में बिकी थी। इस वर्ष आरोपी लॉक डाउन में बेंचने के लिए ट्रक में नशीली सिरप मंगवाए थे और उसे अपने घर में भंडारण कर लिया था।

Powered by Blogger.