MP : इंदौर शहर में लगातार मिल रहे कोरोना मरीज, 788 नए कोरोना संक्रमित : 3 की मौत

इंदौर। इंदौर शहर में कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। रविवार को 788 संक्रमित पाए गए। इस दिन 5657 सैंपलों की जांच की गई। इसके पहले शनिवार को 737 संक्रमित मिल चुके हैं। अब तक 9 लाख 50 हजार 669 सैंपलों की जांच की जा चुकी है। रविवार को तीन की मौत हुई।

राजस्थान और गुजरात जाने वाले हवाई यात्रियों को कोविड रिपोर्ट जरूरी

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच दो और राज्यों ने अपने यहां आने वाले यात्रियों के कोविड रिपोर्ट अनिवार्य कर दी है। अब राजस्थान और गुजरात जाने वाले हवाई यात्रियों को अपने साथ कारोना रिपोर्ट ले जाना जरूरी होगा। इंदौर से राजस्थान के किशनगढ़ और गुजरात के अहमदाबाद के लिए सीधी उड़ाने हैं। एयरपोर्ट प्रबंधन के अनुसार इंदौर में ऐसी कोई सख्ती नहीं है। केवल महाराष्ट्र से आने वाले यात्रियों के लिए कोविड की निगेटिव रिपोर्ट अनिवार्य है।

1.33 लाख डोज मिली

इंदौर शहर में भोपाल से कोविड की पर्याप्त मात्रा में डोज पहुंचा दी गई है। इंदौर को रविवार को 25500 कोवैक्सीन और 1.08 लाख कोविशील्ड की डोज मिली। अब इंदौर के पास तीन से चार दिन का स्टाक हो गया है। शहर में करीब 138 सरकारी केंद्रों के माध्यम से टीकाकरण किया जा रहा है। सोमवार से स्वास्थ्य विभाग द्वारा 50 नए सरकारी केंद्रों पर टीकाकरण शुरू किया जाएगा। स्वास्थ्य विभाग ने गंभीर बीमारों को घर पर जाकर टीका लगवाने की योजना बनाई है।

फ्रंटलाइन वारियर व स्वास्थ्यकर्मियों को नहीं लगेंगे टीके, डाटा से ज्यादा को लग गया

सोमवार से फ्रंटलाइन वारियर व स्वास्थ्यकर्मियों को प्राथमिकता के आधार पर टीका नहीं लगाया जाएगा। दरअसल स्वास्थ्य विभाग के पास इस श्रेणी का जो डाटा उपलब्ध था उससे 24 फीसद ज्यादा टीके लगाए जा चुके हैं। गौरतलब है कि शासन द्वारा टीकाकरण की शुरुआत में फ्रंटलाइन वारियर व स्वास्थ्यकर्मियों को प्राथमिकता देकर टीका लगाया गया था। दो महीने में बारबार इन्हें टीका लगवाने के अवसर दिए गए। स्वास्थ्यकर्मियों और फ्रंटलाइन वारियर की आड़ में ऐसे लोगों ने भी टीका लगवा लिया जो इस वर्ग के नहीं थे। स्वास्थ्यकर्मियों का जो डाटा केंद्र सरकार के पास उपलब्ध था उससे 24 फीसद ज्यादा लोगों को टीका लग गया है। केंद्र सरकार के निर्देश के बाद अब सोमवार से इंदौर में फ्रंटलाइन वारियर व स्वास्थ्यकर्मियों को टीके नहीं लगाए जाएंगे। इंदौर में अब तक 40 हजार 879 स्वास्थ्यकर्मियों को टीके की पहली डोज और 28183 को दूसरी डोज लगी है। वहीं 42551 फ्रंटलाइन वर्कर को पहली डोज और 18 हजार 118 को दूसरी डोज लग चुकी है।

Powered by Blogger.