MP : सरकारी सिस्टम फेल / बार-बार कॉल करने के बाद भी नहीं आई एंबुलेंस; पत्नी को ऑक्सीजन लगाया और ठेले पर डालकर ले गया अस्पताल


कोरोना के कहर में दूसरी बीमारियों के मरीजों को उपचार के लिए भटकना पड़ रहा है। उज्जैन में दमे की शिकार एक महिला की तबीयत बिगड़ने पर जब एंबुलेंस नहीं आई तो पति परेशान हो गया। उसने एक व्यक्ति की मदद से पत्नी को ठेले पर डाला और ऑक्सीजन भी लगा दिया। इसके बाद ठेले पर ही अस्पताल तक ले गया। आगर मालवा जिले के सुसनेर गांव की 30 वर्षीय छोटी बी को दमे की शिकायत है। 

पति इब्राहीम उसका इलाज कराने बाइक से उज्जैन लाया। उज्जैन विराट नगर में एक रिश्तेदार के घर पर पत्नी की अचानक तबीयत बिगड़ गई। एंबुलेंस को फोन किया लेकिन कोई जवाब नहीं मिला। पति समेत रिश्तेदार भी परेशान हो गए। जब एंबुलेंस आने की उम्मीद खत्म होने लगी तो ऑक्सीजन सिलेंडर और ठेले की जुगाड़ की गई। ठेला गाड़ी 50 रुपए में किराए पर ली गई। पास ही रहने वाले कल्लु ने सिलेंडर और ठेला दिलाने में मदद की। 

जनता कर्फ्यू पर सख्ती : बेवजह घूमते पाए गए तो शाम तक नहीं पूरी रात हवालात में बिताना होगी

महिला को ऑक्सीजन लगा दिया और ठेले पर डालकर अस्पताल ले गए। इब्राहीम ने ठेला धकाया तो कल्लू ने ऑक्सीजन सिलेंडर उठाया। लगभग डेढ़ किलोमीटर का सफर ठेले पर कर महिला को निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। इब्राहीम सिर्फ आठवीं कक्षा तक पढ़ा है लेकिन उसके जज्बे की वजह से पत्नी को अस्पताल तक ले गया। इब्राहीम ने कहा अभी तो जैसे-तैसे पत्नी की जान बचा ली लेकिन ऑक्सीजन नहीं मिलने की वजह से परेशान हूं। आगे क्या होगा, कुछ नहीं कह सकता।

कोरोना ने मां को छीना तो अगले ही दिन चार मंजिला से कूदी बेटी : जान बचाने की बजाय वीडियो बनाते रहे लोग

इस मामले में अपर कलेक्टर जितेंद्र सिंह चौहान ने कहा कि ऐसी कोई घटना मुझे नहीं पता है।किसी को एंबुलेंस की जरूरत हो तो 1075 कोरोना सेंटर पर कॉल कर सकता है।

Powered by Blogger.