MP : यहाँ लगता है श्मशान टैक्स : श्मशान में भी अवैध बसूली, दाह संस्कार के लिए 1500 रुपए का रेट

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें


ग्वालियर. नगर निगम कर्मचारी ने लक्ष्मीगंज स्थित गैस शवदाह गृह नि:शुल्क होने वाले दाह संस्कार के 1500 रुपए वसूल लिए। पीडि़त पक्ष ने कर्मचारी से रसीद मांगी तो उसने देने से मना करते हुए कहा, अस्थियां लेने आओगे तो मिल जाएगी। प्रभारी अतिबल यादव ने इस मामले में यह कहते हुए पल्ला झाड़ लिया कि यह काम प्राइवेट कर्मचारियों का है हम कुछ नहीं कर सकते।

पीड़ित पक्ष ने स्पष्ट रूप से कहा, यदि रसीद नहीं मिली तो नगर निगम में अपने पिता की अस्थियां छोड़ जाऊंगा। ऐसी घटना फिर न हो इसके लिए विद्युत शवदाह गृह के नोडल अधिकारी रामबाबू दिनकर ने जनकगंज थाना में एफआइआर दर्ज करने के लिए आवेदन दिया है। कर्मचारी का नाम विक्की बताया जा रहा है।

समाजसेवी सुधीर सप्रा के पिता श्रीकृष्णलाल सप्रा का शुक्रवार को निधन हो गया था। परिजन सुबह पिता का दाह संस्कार करने के लिए लक्ष्मीगंज मुक्तिधाम पहुंचे। यहां गैस शवदाह गृह (सीएनसी गैस) से दाह संस्कार करने के लिए वहां मौजूद व्यक्ति ने निगम का कर्मचारी बताते हुए उनसे 1500 रुपए ले लिए। परिजन जब रसीद मांगी तो कर्मचारी ने कहा, दाहसंस्कार के बाद अस्थियां लेने आओगे तो मिल जाएगी। करीब डेढ़-दो घंटे बाद जब परिजन अस्थियां लेने पहुंचे और अस्थियां लेने के बाद 1500 रुपए की रसीद मांगी तो उसने देने से मना कर दिया।

गैस शवदाह गृह नि:शुल्क है

नगर निगम उपायुक्त डॉ अतिबल सिंह यादव ने कहा कि किसी अज्ञात व्यक्ति ने दाह संस्कार के नाम पर 1500 रुपए ले लिए है। ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई के लिए पुलिस में आवेदन दिया है। विद्युत/गैस शवदाह गृह नि:शुल्क है। किसी भी बाहरी व्यक्ति को किसी भी प्रकार का भुगतान न करें।

निगम आयुक्त रसीद दिलवाएं

समाज सेवी सुधीर सप्रा ने कहा कि निगम आयुक्त या तो पिता के दाहसंस्कार के लिए लिए गए 1500 रुपए की रसीद मुझे दिलवाएं या फिर मैं निगम के कार्यालय में पिता की अस्थियां छोड़ जाऊंगा।

दाह संस्कार होता है नि:शुल्क

लक्ष्मीगंज विद्युत शवदागृह - गैस शवदागृह प्लांट में नि:शुल्क दाह संस्कार किया जाता है। इस दाह संस्कार में 5 फीट लंबाई की बॉडी के लिए 5 लकड़ी व 5 फीट से बड़ी लंबाई की बॉडी के लिए 6 लकड़ी का उपयोग दाह संस्कार क्रिया में बॉडी के नीचे मशीन के अंदर बॉडी को ले जाने के लिए उपयोग किया जाता है। लकडिय़ां मृतक के परिजन उपलब्ध कराते हैं।

Powered by Blogger.