MP : वैवाहिक सीजन शुरू : 18 लोगों की मौजूदगी में हुआ विवाह, चार घंटे में घर में की विवाह की रस्में : गठबंधन कर लिए सात फेरे

खंडवा .वैवाहिक सीजन की शुरुआत गुरुवार से हो गई। हालांकि कोरोना संक्रमण के कारण शासन द्वारा तय गाइडलाइन का पालन होने से मांगलिक परिसर, मैरिज गार्डन और धर्मशालाएं सूनी रहीं। शहर में कहीं भी शहनाई की गूंज नहीं सुनाई दी। कुछ लोगों ने घरों में सादगी से विवाह कार्यक्रम किया। विपरीत परिस्थितियों में छोटा कार्यक्रम पूरे उत्साह और रीति-रिवाज से किया।

बड़ा हादसा : पिकअप वैन पुल से गंगा में गिरी , 10 से अधिक लोगों की मौत; 12 से अधिक लोगों के डूबने की आशंका : शवों को निकालने का काम जारी

ऐसा ही एक विवाह शहर के बड़ाबम क्षेत्र में हुआ। यहां वर्कफ्राम होम के दौरान कंम्प्यूटर इंजीनियर दूल्हे सिद्धार्थ दशोरे का विवाह डॉ.श्रुतिका शर्मा से हुआ। 12 बाय 15 वर्गफीट के कमरे में ही मंडप बनाकर विवाह की रस्में पूरी की गईं। वैदिक रीति से गठबंधन कर अग्नि को साक्षी मानकर वर-वधु ने सात फेरे लिए। सुबह 11 बजे शुरू हुई यह शादी दोपहर 3 बजे संपन्न हो गई। इसमें सिर्फ 18 लोग ही शामिल हुए। बाहर के रिश्तेदार तो दूर पड़ोसी भी शामिल नहीं हुए।

शव की अदला-बदली : शव की कराने जा रहे थे अंत्येष्टि, अंतिम दर्शन करने चेहरा खोला तो किसी महिला का निकला

इस तरह हुआ विवाह कार्यक्रम

विवाह कार्यक्रम में लड़की पक्ष के 10 और लड़के पक्ष के आठ लोग शामिल हुए।

घर के पहले कमरे में मंडप बनाया। वैदिक रीति से विवाह की रस्में पूरी की।

दूसरी मंजिल के कमरे में रिसेप्शन किया।

कैटरर्स से भोजन बुलवाया और उत्साह से एक साथ बैठकर ग्रहण किया।

कार्यक्रम में दूल्हे के पिता शैलेश दशोरे, मां ममता दशोरे, दुल्हन के पिता कृष्णकुमार और मां मीना शर्मा सहित घर में मौजूद परिवार के सदस्य ही शामिल हुए।

चार महीने पहले तय हुई थी शादी

सिद्धार्थ दशोरे की शादी चार महीने पहले तय हुई थी। बैंड, घोड़ी और परिसर की बुकिंग भी हो गई थी। शुरुआत में 200, फिर 100 और कुछ समय पहले तक 50 मेहमानों को आमंत्रित करने की अनुमति थी। फिलहाल घर में 20 लोगों की मौजूदगी में ही विवाह कार्यक्रम की अनुमति है।

परिस्थितियां कैसी भी हो, काम रुकना नहीं चाहिए

दूल्हे के पिता शैलेश ने बताया परिस्थितियां कैसी भी हो कोई काम नहीं रुकना चाहिए। आज घर में ही छोटा सा कार्यक्रम हुआ। सोशल मीडिया के माध्यम से अन्य रिश्तेदारों और मित्रों ने बधाई दी। विवाह में किसी तरह का अनावश्यक खर्च नहीं हुआ। कोरोना ने अनावश्यक खर्च नहीं करने की सीख भी दी है। सभी परिवार घर में ही शादी करें और बचा पैसा बच्चों के नाम इनवेस्ट कर दें तो उनका भविष्य उज्ज्वल होगा।


ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या गूगल न्यूज़ या ट्विटर पर फॉलो करें. www.rewanewsmedia.com पर विस्तार से पढ़ें  मध्यप्रदेश  छत्तीसगढ़ और अन्य ताजा-तरीन खबरें

विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें  7694943182, 6262171534

Powered by Blogger.