मास्क पहनना जरूरी : जानिए काैन सा मास्क कैसा है और उसे कैसे पहना जा सकता है इस बारे में बता रहे एक्सपर्ट्स


(COVID-19) शहर में कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी, रेमडेसिविर इंजेक्शन की किल्लत और आईसीयू भरे होने से यह संकट और गहरा गया है। ऐसे में मास्क कोरोना संक्रमण से बचने का एक कारगर उपाय है। सही ढंग से मास्क लगाना अब और भी जरूरी हो गया है। जिला महामारी नियंत्रण अधिकारी डाॅ. संजय भंडारी व एमडी मेडिसिन डाॅक्टर हेमंत नरगावे का कहना है कि मास्क के बीच सिल्क की लेयर होगी तो यह लोगों को एक हद तक संक्रमण से बचा सकते हैं।

1 फैब्रिक/कपड़े के मास्क : इस मास्क को हर बार लगाने के बाद धोएं ज़रूर। सार्वजनिक स्थानों पर इसके इस्तेमाल से यह आपको कोरोना से एक हद तक बचा सकता है। लेकिन इसे लगाने के बावजूद संक्रमण का खतरा बना रहेगा। कपड़े के मास्क पहनना हैं तो मोटे कॉटन का मास्क पहनें। मास्क के बीच सिल्क की परत ज़रूर होना चाहिए क्योंकि सिल्क चार्ज्ड माइक्रो फाइबर की तरह होती है।

क्या इन्हें धोया जा सकता है? : सिल्क लेयर वाले मास्क को सात-आठ बार धोकर इस्तेमाल किया जा सकता है।

2 सर्जिकल मास्क : ये मास्क आसानी से मार्केट में उपलब्ध हैं। इन्हें कोई आसानी से इस्तेमाल कर सकता है। ये नीले या हरे रंग के हैं। नॉन वुवन मास्क ही सही सर्जिकल मास्क होते हैं। लेकिन हाई रिस्क वाली जगह में इस मास्क के इस्तेमाल के बावजूद इन्फेक्शन होने का खतरा रहता है।

इन्हें धोकर इस्तेमाल नहीं किया जा सकता। एक बार इस्तेमाल कर डिस्पोज करें।

इन बातों का रखें ध्यान

मास्क में नोज़ वायर हो जिससे आप मास्क को पूरी तरह फिट कर सकें और कहीं से ड्रॉपलेट्स पास न हों।

मास्क आपके दोनों गालों से चिपका होना चाहिए जिससे हवा या बैक्टीरिया न गुजर सके।

मास्क विनाइल या किसी ऐसे कपड़े का न हो जिसमें सांस लेते ना बने।

एग्ज़ेलेशन वॉल्व वाले मास्क न चुनें जिनसे पार्टिकल्स आर-पार जाने का खतरा हो।

दुपट्‌टे या स्कार्फ को मास्क की तरह इस्तेमाल ना करें। फैब्रिक के मास्क में भी दो या उससे ज्यादा लेयर हों तो बेहतर।

Powered by Blogger.