SATNA : शादियों के लिए नई गाइडलाइन: शाम 5 बजे से पहले होंगी शादियां; लोग बोले- शुभ मुहूर्त रात में, तो दिन में कैसे बना देंगे पुरोहित

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

सतना। कोरोना कर्फ्यू के दौरान अब सतना जिले में शाम 5 बजे से पहले शादियां होंगी। अर्थात शुभ विवाह की प्रक्रियाएं अल सुबह से चालू होकर दोपहर तक खत्म हो जाएंगी। फिर शाम को बरात की विदाई हो जाएगी। साथ ही, शाम 5 बजे से पहले दुल्हन ससुराल पहुंच जाएगी। इस संबंध में कलेक्टर द्वारा आदेश जारी किए गए हैं।

नए आदेश के मुताबिक प्रदेश में बढ़ रहे कोरोना के संक्रमण को देखते हुए नई गाइडलाइन के तहत 1 मई से पहले होने वाले शादी-विवाह व मांगलिक कार्यों में वर पक्ष से 20 व वधू पक्ष से 20 मिलाकर कुछ 40 लोग शादी समारोह में शामिल होंगे।

मतलब घरात की ओर से नाई, पंडित, हलवाई व परिजनों को मिलाकर कुल 20 सदस्य शामिल होंगे। वहीं, बरात की ओर से डीजे, बैंड, बारात व दुल्हा समेत 20 बराती थाने में सूचना देकर आएंगे। नियमों के उल्लंघन पर कार्रवाई की जाएगी।

ये है शादी समारोह का नया आदेश

शादी समारोह में पंडित, नाई समेत कुल 20 लोग ही शामिल हो सकेंगे।

शादी दिन में शाम 5 बजे के पहले संपन्न कराना अनिवार्य होगा।

पुरोहितों से चर्चा अनुसार प्रत्येक दिन शादी व्याह के लिए शुभ मुहूर्त दिन में उपलब्ध है।

बारात, जुलूस निकालना, सामूहिक कार्यक्रम आयोजित करना प्रतिबंधित रहेगा।

डीजे, लाउडस्पीकर बजाना प्रतिबंधित रहेगा।

उक्त आदेश का उल्लंघन करने की दशा में संबंधित के खिलाफ केस दर्ज किया जाएगा।

अस्थाई जेल भेजने की कार्रवाई की जा सकती है।

दंड प्रक्रिया संहिता के प्रावधान अंतर्ग​त बंधपत्र निष्पादित ​कराया जाएगा।

आदेश को लेकर विरोध

कर्मकांडी पंडितों का कहना है कि आज तक ज्यादातर शादी समारोह रात में ही होते आ रहे है। अगर कोरोना के कारण दिन में शादी का आदेश देना था, तो न देते ज्यादा अच्छा होता। अब भला पुरोहित लोग कैसे दिन में शादी के लिए मार्गदर्शित कर सकते है। हालांकि जिनको अपना काम निकालना है या कि शादी अनिवार्य है, तो वे पहले भी दिन में करते आ रहे हैं, लेकिन हिन्दू रीति रिवाज के हिसाब से दिन में शादी करने का आदेश देना जल्दबाजी है।

Powered by Blogger.