MP : दादाजी की 2 साल पुरानी ब्लड रिपोर्ट लेकर घूमने निकला था युवक, पुलिस ने पकड़ा तो शर्म से सिर झुका लिया

ग्वालियर में बेकाबू होते कोरोना संक्रमण पर नियंत्रण पाने के लिए लॉकडाउन लगा रखा है। बावजूद लोग नहीं मान रहे हैं। बेवजह सड़कों पर निकल रहे हैँ। इसके लिए नए-नए बहाने भी बना रहे हैँ। शनिवार को ऐसा ही मामला सामने आया।

इंदरगंज चौराहे पर शनिवार को चैकिंग के दौरान पुलिस ने एक्टिवा सवार युवक को पुलिस ने रोका। पुलिस ने कारण पूछा, तो युवक ने गाड़ी की डिक्की से ब्लड रिपोर्ट निकालकर पुलिस को दिखाई। बताया, उसके दादाजी की तबीयत खराब है, वह जांच रिपोर्ट दिखाने डॉक्टर के पास जा रहा है। ब्लड रिपोर्ट अप्रैल 2021 की थी। पहले तो पुलिस भी चकरा गई, लेकिन जब ठीक से जांच की, तो पता लगा कि रिपोर्ट अप्रैल 2019 की है। युवक ने बड़ी की चालाकी से 2019 को व्हाइटनर से 2021 किया था। इसके बाद पुलिस ने उसकी अच्छे से खैर ली। पुलिस ने पहले तो उसका चालान काटा, फिर सड़क पर ही कान पकड़वाए। शुक्रवार को एक ही दिन में एक हजार से ज्यादा संक्रमित मिलने के बाद पुलिस सड़क पर सख्त हो गई है। बाजारों और सड़कों पर निकलने वाले लोग बहाना बना रहे हैं, जिससे पुलिस परेशान हो गई है।

कोरोना की दूसरी लहर से संक्रमण बेकाबू हो गया है। लगातार ग्वालियर में संक्रमित की संख्या बढ़ती जा रही है। शुक्रवार को एक हजार से ऊपर कोविड संक्रमित मिलने के बाद पुलिस और प्रशासन सख्ती के मूड में आ गए हैं। सड़कों पर चैकिंग सख्त कर दी गई है। शनिवार सुबह 9 बजे से पहले ही बाजार बंद कर दिए गए हैं। बाजारों में डंडा लेकर निकली पुलिस ने किसी को नहीं छोड़ा। शनिवार को सुबह से ही पुलिस सड़कों पर बिना कारण निकलने वालों पर सख्ती करती नजर आई। दोपहर 12 बजे तक 250 चालान बन चुके थे। सुबह 9 बजे से ही बाजारों में सन्नाटा था।

बच्ची ने खोल दी सैंपल की पोल

इंदरगंज चौराहे पर चैकिंग कर रही पुलिस ने जब स्कूटर सवार एक दंपती को रोका। उन्होंने बताया कि वह ख्ॠक्त में सैंपल देने जा रहे हैं। जब पुलिस ने उनसे पूछा कि किसका सैंपल देना है, तो स्कूटर चला रहा राजेश देवा ने बताया कि वह पत्नी का सैंपल कराने जा रहा है। उसकी तबीयत भी ठीक नहीं है। पत्नी की हालत देख लगा नहीं कि वह बीमार है। इस पर पुलिस अफसर ने स्कूटर पर सवार पांच साल की रिया से पूछ लिया कि बेटा आप कहां जा रहे हो। इस पर बच्ची ने बड़ी ही मासूमियत से कहा बिंदु आंटी के यहां जा रहे हैं। इस पर पुलिस अफसरों ने दंपती को फटकारा कि आप जैसे लोगों के ही कारण ही संक्रमण फैल रहा है। खुद तो निकले हैं, साथ में बच्ची की जान को खतरे में डाल रहे हो। इसके बाद बिना कारण निकलने पर उनका रेडक्रॉस का चालान बनाया गया।

पुराने एक्सरे व पर्चे मिले

पुलिस ने जब सड़कों पर घूमने वालों से पूछताछ की, तो वह बीमारी का बहाना बनाने लगे। जब पुलिस अफसरों ने उनसे पर्चे मांगे, तो बिना समय गंवाए उन्होंने अपनी जेबों से पर्चे पुलिस अफसरों को दिखाने लगे। पुलिस अफसर ने जब पर्चे पर ठीक से नजर डाली, तो कोई पर्चा एक साल तो कोई दो साल पुराना निकला। ऐसे भी लोगों के चालान किए गए हैं।

पुलिस ने डंडे के जोर पर बंद कराए बाजार

रोज की तरह सुबह 6 से 9 बजे तक खुलने थे, लेकिन 9 बजे के बाद भी कुछ दुकान वाले दूध-सब्जी की आड़ में बाजार में बैठे थे। साथ ही, हाथ ठेले वाले भी सड़कों पर घूमते नजर आए। इसके लिए पुलिस ने डंडे के जोर पर सड़क से इन लोगों को खदेड़ा। डंडा हाथ में लेकर जब पुलिस सड़कों पर निकली, जो ठेले वाले गलियों में छुपते हुए नजर आए।


ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या गूगल न्यूज़ या ट्विटर पर फॉलो करें. www.rewanewsmedia.com पर विस्तार से पढ़ें  मध्यप्रदेश  छत्तीसगढ़ और अन्य ताजा-तरीन खबरें

विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें  7694943182, 6262171534

Powered by Blogger.