MP : युवा और बच्चे भी हो रहे संक्रमित तो सही समय पर इलाज के कारण बुजुर्ग ठीक होकर लौट रहें अपने घर


ग्वालियर .काेराेना की दूसरी लहर में वायरस अधिक घातक हो चुका है। बुजुर्गों के साथ 40 से कम उम्र के लाेग भी इसकी चपेट में आ रहे हैं। चौकाने वाली बात है कि जहां कुछ कम उम्र के लाेगाें की संक्रमण के कारण माैत की खबरें आ रही हैं ताे कुछ बुजुर्ग ऐसे हैं, जाे इस वायरस काे हराकर अस्पतालाें से सकुशल घर लाैटे हैं। डॉक्टरों का कहना है कि जिन लोगों की जीवन शैली शुरू से ही बेहतर और अनुशासित रही है और जिन्होंने कोरोना संक्रमण होने के शुरूआती 7 से 8 दिनों में ही ट्रीटमेंट शुरू करा दिया, ऐसे लाेगाें के ठीक हाेने का प्रतिशत अधिक है।

एक्सपर्ट... सही समय पर जांच और इलाज फायदेमंद

इस बार काेराेना वायरस से युवा और बच्चे भी संक्रमित हाे रहे हैं, लेकिन कुछ ऐसे भी उदाहरण हम देख रहे हैं जिसमें 60 वर्ष से अधिक उम्र के कुछ बुजुर्ग ठीक भी हुए हैं। इसकी बड़ी वजह ये है कि उन्हें पहले से कोई दूसरी गंभीर बीमारी नहीं थी। दूसरी वजह कोविड पॉजीटिव पता लगने के शुरूआती 7 से 8 दिन में ट्रीटमेंट का शुरू हो जाना भी है। -डॉ.अरुण तिवारी, केडीजे हाॅस्पिटल

2 उदाहरण जगाते हैं उम्मीद

90 साल की शीला ने आठ दिन में कोरोना को हराया

अलीजा बाग में रहने वाली 90 वर्ष की शीला सचदेवा वैक्सीन का पहला डोज लगवा चुकी थीं, लेकिन उसके तीन दिन बाद उन्हें बुखार और सांस लेने में तकलीफ हुई। जांच कराई तो कोविड पॉजीटिव निकली। उन्हें जेएएच के सुपर स्पेशीलिटी हॉस्पीटल में भर्ती कराया गया। लेकिन 8 दिन बाद ही वे ठीक होकर घर वापस आ गईं।

85 साल के शिवनंदन ने कोरोना से जंग जीती

पटेल नगर में रहने वाले शिवनंदन मिश्रा की आयु 85 वर्ष है। इन्हें कुछ दिन पहले कोविड पॉजीटिव आने पर एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया। सही समय पर ट्रीटमेंट शुरू हुआ और अब वे घर आकर स्वास्थ्य लाभ ले रहे हैं।

Powered by Blogger.