Covid-19 Vaccine: महिलाओं को पुरुषों की तुलना में वैक्सीन से ज्यादा साइड-इफेक्ट्स का करना पड़ता है सामना जाने ....


आम तौर पर, बदन दर्द, बुखार, कंपकंपी जैसे लक्षणों के अनुभव की उम्मीद वैक्सीन का डोज लगवाते वक्त की जा सकती है. सोशल मीडिया पर जो कुछ शेयर किया जा रहा है, उसके मुताबिक महिलाओं को अधिक गंभीर दर्द पुरुषों की तुलना में हो सकता है, जो दूसरे डोज से भी ज्यादा खराब हो सकता है. उसका खास कारण अभी स्पष्ट नहीं की किया गया है, लेकिन ज्यादातर संभावना इस बात की है कि हार्मोनल अंसुतलन के जरिए इम्यून रिस्पॉन्स को ईंधन मिल सकता है.

कोविड-19 वैक्सीन

संभावना है कि कोविड-19 वैक्सीन अन्य किसी दूसरी वैक्सीन की तरह कुछ साइड-इफेक्ट्स पैदा करे. ज्यादातर हल्का, सहनीय या कुछ फ्लू जैसा साइड-इफेक्ट्स हो. लेकिन, अब तक जो कुछ बड़े पैमाने पर सामने आ रहा है, उससे यही लगता है कि महिलाएं कोविड-19 वैक्सीन के डोज से ज्यादा साइड-इफेक्ट्स का अनुभव करने लगी हैं. वास्तव में, वर्तमान रिसर्च से भी यही संकेत मिलता है कि महिलाओं पर पुरुषों की तुलना में ज्यादा साइड-इफेक्ट्स हो रहा है.

रिपोर्ट के मुताबिक वैक्सीन से पैदा होनेवाले साइड-इफेक्ट्स का खामियाजा महिलाओं को ज्यादा भुगतना पड़ सकता है. जामा मेडिसीन के फरवरी अंक में प्रकाशित रिसर्च से खुलासा हुआ कि महिलाओं को एनाफिलैक्सिस समेत प्रतिकूल प्रतिक्रयाओं से जूझने का ज्यादा खतरा होता है. एक अन्य सीडीसी की रिपोर्ट में वैक्सीन लाभुकों के साइड-इफेक्ट्स का मूल्यांकन करने पर पाया गया कि 6994 लोग जिन्होंने साइड-इफेक्ट्स की बात कही थी, उनमें महिलाओं की संख्या 79.1 फीसद थी. हालांकि, अभी इसका ठोस सबूत नहीं मिला है और न ही वैज्ञानिकों को वास्तव में जानकारी है कि महिलाओं को ज्यादा साइड-इफ्क्ट्स होने की क्या वजह है. कुछ लोगों का सुझाव है कि महिलाओं का इम्यून सिस्टम ज्यादा सक्रिय रहता है. कुछ विशेषज्ञों का ये भी मानना है कि एस्ट्रोजन लेवल शरीर को 'ज्यादा मजबूत' इम्यून रिस्पॉन्स पैदा करने की अनुमति देता है.

हैवी पीरियड और पेट में ऐंठन

सामान्य पीरियड के मुकाबले ज्यादा हैवी किसी भी वैक्सीन के साइड-इफेक्ट्स में दर्ज नहीं है. मगर, जो कुछ सोशल मीडिया पर बात चल रही है, उसके मुताबिक वैक्सीन लगवाने वाली महिलाओं को सामान्य प्रवाह के मुकाबले हैवी पीरियड का अनुभव करना पड़ सकता है. आधिकारिक रूप से ये साइड-इफेक्ट में चिह्नित नहीं किया गया है. शोधकर्ता अभी भी इस सिलसिले में रिसर्च की जरूरत बता रहे हैं. 

मासिक चक्र में बदलाव

कई ऐसी महिलाएं हैं जिन्होंने बताया कि वैक्सीन लगवाने से उनके मासिक चक्र का समय बदल गया. मिसाल के तौर पर कुछ महिलाओं का समय अपेक्षा से पहले आ गया. वैक्सीन बाधा नहीं बनती है या लंबे समय में आपके प्रजनन चक्र को नाकाम नहीं करती है, ये संभावित प्रतिक्रिया हो सकती है क्योंकि वैक्सीन इम्यून सिस्टम को 'उभार' सकती है, जिसके चलते आपका पीरियड जल्दी या बाद में आ सकता है. विशेषज्ञों का सुझाव है कि ये अस्थायी साइड-इफेक्ट हो सकता है और लंबे समय में महिलाओं को चिंता करने की जरूरत नहीं होनी चाहिए. 

लिम्फ ग्रथियों में सूजन

वैक्सीन का एक सबसे अप्रत्याशित साइड-इफेक्ट्स अभी लिम्फ ग्रथियों में सूजन है, जो आम ब्रेस्ट कैंसर के लक्षण के समान कुख्यात हो सकता है. एमआरएनए वैक्सीन लेनेवाली महिलाओं में ये ज्यादा देखा जा रहा है. इसका क्या कारण है, अभी पता नहीं चल पाया है, लेकिन दुर्लभ जटिलता हो सकती है.

Powered by Blogger.