MP : भोपाल में कोरोना की तीसरी लहर रोकने की तैयारी शुरू : कलेक्टर ने अस्पताल संचालकों और विशेषज्ञ डॉक्टरों के साथ की समीक्षा बैठक

भोपाल कलेक्टर अविनाश लवानिया ने कोरोना की तीसरी लहर रोकने और नियंत्रित करने के लिए गुरुवार को विभिन्न अस्पताल संचालकों और वरिष्ठ चिकित्सकों के साथ समीक्षा बैठक की। लवानिया ने सभी वरिष्ठ चिकित्सकों से कहा कि भोपाल में तीसरी लहर को रोकने के लिए अभी से प्रयास करना होगा। उन्होंने कहा- तीन चरणों में लगातार प्रयास करते हुए आगे बढ़ना होगा। पहला- जन जागरूकता अभियान चलाया जाए। दूसरा- संक्रमित होने वाले लोगों को रोकने के लिए लगातार घर-घर सर्वे और दवाइयों का वितरण और तीसरा- अस्पताल की अधोसंरचना का बेहतर प्रबंधन करना होगा।

कलेक्टर लवानिया ने कहा- निजी और शासकीय अस्पतालों के साथ समाजसेवी, एनजीओ और जनता के सहयोग से ही कार्य किया जाएगा। मार्केट को सीमित स्तर पर ही खोला जाएगा। भीड़ वाली जगहों को प्रतिबंधित किया जाएगा। साथ ही, लगातार विशेषज्ञों के साथ चर्चा बाद कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी।

बैठक में जिला पंचायत सीईओ विकास मिश्रा, मुख्य चिकित्सा स्वास्थ्य अधिकारी प्रभाकर तिवारी, गांधी मेडिकल कॉलेज के डीन डॉक्टर जितेंद्र शुक्ला, अधीक्षक हमीदिया डॉ. लोकेंद्र दवे, नेशनल हॉस्पिटल के डॉ. प्रद्युम्न पांडे , डाॅ. राकेश मिश्रा, डाॅ. राजन क्षेत्रपाल, डाॅ. राकेश सुखेजा, चिरायु मेडिकल कॉलेज के डॉ. अजय गोयनका भी उपस्थित रहे।

कलेक्टोरेट में हुई बैठक में चिकित्सकों ने बताया कि तीसरी लहर से बच्चों के संक्रमित होने की अधिक आशंका है। इसके लिए जन जागरूकता अभियान चलाया जाए। आवश्यकता होने पर सैंपलिंग बढ़ाई जाए। डॉ. जितेंद्र शुक्ला ने बताया कि हमीदिया में जल्द ही 80 बेड का वार्ड बच्चों के लिए शुरू किया जाएगा, जिसमें ऑक्सीजन के साथ वेंटिलेटर भी रहेंगे।

डॉक्टर प्रद्युम्न पांडे ने कहा कि इस बार की डिसीज का नेचर चेंज हुआ है। व्यक्ति 2 दिन में ही माइल्ड से मॉडरेट हो रहा है। देखा गया है कि मोटापे के कारण कोरोना संक्रमित लोग जल्दी मॉडरेट स्थिति में पहुंच रहे हैं। इसके लिए योग और एक्सरसाइज को भी बढ़ावा दिया जाए। साथ ही, अर्ली डिटेक्शन और जल्दी इलाज शुरू करने की जरुरत है।

चिरायु अस्पताल के डॉ. अजय गोयनका ने कहा कि कोरोना संक्रमण को रोका जाना चाहिए। इसके लिए मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग के साथ बाजारों को खोलने में भी सुरक्षा रखनी चाहिए। सीमित स्तर पर ही गतिविधियां शुरू की जाएं। अभी से ऑक्सीजन और अन्य स्वास्थ्य सुविधाओं के विस्तार के लिए और व्यापक तैयारी की जरूरत है। उन्होंने और अधिक स्टाफ को प्रशिक्षित करने की जरूरत बताई।

बैठक में अन्य डॉक्टरों ने भी सुझाव दिए। सभी ने पोस्ट कोविड तैयारी की ज्यादा जरूरत बताई। कोविड केयर सेंटर मे पोस्ट कोविड केंद्र बनाए जाने पर भी जोर दिया गया। बच्चों की वैक्सीन जल्दी आए। इसके लिए लगातार प्रयास किए जाएं और केंद्र सरकार से भी आग्रह किया जाए।

बैठक में सभी ने कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर के संबंध में अपने विचार और अनुभव बताए।

Powered by Blogger.