GOOGLE : 50 हजार पत्रकारों और मीडिया के छात्रों को डिजिटल प्लेटफॉर्म में मिलेगी ट्रेनिंग, देश के 30 समाचार संगठनों से साथ लॉन्च किया न्यूज शोकेस

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

गूगल ने मंगलवार को भारत में 30 समाचार संगठनों के साथ अपने न्यूज शोकेस (News Showcase) को लॉन्च किया। कंपनी के मुताबिक इसका मकसद गूगल के समाचार और खोज मंचों पर गुणवत्तापूर्ण सामग्री प्रदर्शित करने के लिए प्रकाशकों को प्रोत्साहित करना और समर्थन देना है। इसके अलावा गूगल ने घोषणा की है कि वो अगले 3 सालों में भारत के 50 हजार पत्रकारों और मीडिया के छात्रों को डिजिटल प्लेटफॉर्म के बेहतर इस्तेमाल की ट्रेनिंग देगा।

फिलहाल गूगल ने हिन्दी और अंग्रेजी के 30 राष्ट्रीय, क्षेत्रीय और स्थानीय समाचार संगठनों और न्यूज पब्लिशर्स के साथ मिलकर न्यूज शोकेस शुरु किया है। इन ऑर्गेनाइजेशंस में दैनिक जागरण, एचडी डिजिटल स्ट्रीम्स लिमिटेड, द हिंदू ग्रुप, इंडियन एक्सप्रेस ग्रुप, एबीपी लाइव, टेलिग्राफ इंडिया, आईएनएस और एएनआई जैसे संस्थान शामिल हैं। इनका कंटेंट गूगल न्यूज और डिस्कवर पर डेडिकेटेड न्यूज शोकेस में दिखेगा। गूगल इस साल इसे कई अन्य भारतीय भाषाओं में लॉन्च करेगा और आने वाले समय में तमाम भाषाओं के कंटेट को शामिल करेगा।

गूगल के उपाध्यक्ष (उत्पाद प्रबंधन) ब्रैड बेंडर ने कहा, ‘‘हम अब प्रकाशकों की मदद के लिए न्यूज शोकेस पेश कर रहे हैं, ताकि लोगों को भरोसेमंद खबर मिल सके, विशेष रूप से इस महत्वपूर्ण समय में जब कोविड संकट जारी है। समाचार शोकेस, प्रकाशकों की पसंद के अनुसार लेखों को बढ़ावा देता है, और उन्हें खबर के साथ अतिरिक्त संदर्भ देने की अनुमति भी देता है, ताकि पाठकों में आसपास की घटनाओं को लेकर बेहतर समझ बन सके।'' गूगल की यह सेवा जर्मनी, ब्राजील, कनाडा, फ्रांस, जापान, यूके, ऑस्ट्रेलिया, चेकिया, इटली और अर्जेंटीना सहित एक दर्जन से अधिक देशों में पहले से ही मौजूद है।

भारत में गूगल के कंट्री हेड और उपाध्यक्ष संजय गुप्ता ने कहा कि प्रिंट, टेलीविजन और डिजिटल में समाचारों की खपत बढ़ रही है, और अब अधिकतर युवा उपभोक्ता, समाचार के लिए डिजिटल माध्यम का इस्तेमाल कर रहे हैं। उन्होंने ये भी कहा कि कंपनी अगले तीन वर्षों में 50,000 से अधिक पत्रकारों और पत्रकारिता के छात्रों को डिजिटल माध्यम के लिए प्रशिक्षित करेगी। साथ ही खबरों के सत्यापन, फेक न्यूज से निपटने के उपायों और डिजिटल उपकरणों के इस्तेमाल पर खासतौर से ध्यान केंद्रित किया जाएगा।

Powered by Blogger.