REWA : मूसलाधार वर्षा से किसान तबाह : खरीदी केन्द्रों में रखा करोड़ों रूपए का गेहूं भींगा, कई कच्चे घर गिरे

  

रीवा। ताऊ ते तूफान का असर कहीं हुआ हो अथवा न हुआ हो लेकिन विंध्य क्षेत्र के सतना जिले में जरूर हुआ है। यहां आधा सैकड़ा खरीदी केन्द्रों में रखा करोड़ों रूपए का गेहूं भींग कर नष्ट हो रहा है। वहीं उपार्जन केन्द्रों में समर्थन मूल्य पर गेहूं की फसल बेंचने पहुंचे अन्नदाता की उम्मीदे बर्बाद हो रही है। दो सप्ताह से ज्यादा लाइन लगाए खरीदी केन्द्रों में खड़ी ट्रॉलियों रखा गेहूं मूसलाधार वर्षा से तबाह हो रहा है।

किसानों का आरोप है कि सरकारी सिस्टम की लापरवाही से गेहूं सड़ रहा है। शहर से लेकर गांव तक कोई किसानों की सुनने वाला नहीं है। हालांकि सतना जिले की अपेक्षा रीवा जिले की स्थितियां सही है। वहां बिचौलियों का गेहूं नहीं खरीदा जाता। सिर्फ किसानों के गेहूं की खरीदी ही की जाती है।

साथ ही सतना की अपेक्षा उठाव की व्यवस्था सही है। ऐसे में रीवा में कम नुकसानी हुई है, लेकिन सतना में हाल भयावह है। तीन दिन से रूक रूक कर चल रही बारिश से कई गांवों में कच्चे घर धराशाई हो गए है। वहीं वहीं सब्जी की फसल ​बिल्कुल नष्ट हो गई है। अन्य सब्जियों की अपेक्षा प्याज फसल को ज्यादा नुकसान है।

रीवा: ढाई लाख क्विंटल गेहूं का उठाव नहीं

रीवा जिले में अब तक 16 लाख 67 हजार क्विंटल गेहूं की खरीदी हुई है। जिसमे से दो लाख 69 हजार क्विंटल गेहूं अभी तक उठाव न होने की वजह से खरीदी केन्द्रों में ही रखा हुआ था। कई जगह यह गेहूं खुले में ही रखा है। जहां पर बारिश से बचाने के लिए पर्याप्त इंतजाम नहीं किए गए है। वहीं दो दिनों से खरीदी केन्द्रों में सैकड़ों किसान गेहूं की विक्री के लिए इंतजार में है। ट्रैक्टर सहित अन्य वाहनों में गेहूं लेकर पहुंचे इन किसानों का गेहूं बारिश की वजह से भींग गया। ऐसी संभावना है कि जिले में दो लाख क्विंटल से ज्यादा गेहूं बारिश की भेंट चढ़ा है।


सतना: डीजल पंप लगाकर निकाल रहे पानी

सतना जिले के खरीदी केन्द्रों में इस कदर पानी भरा है कि कई खरीदी केन्द्रों में किसान डीजल पंप लगाकर पानी निकाल रहे है। सबसे ज्यादा हालात खराब बिरसिंहपुर तहसील क्षेत्र प्रपापपुर खरीदी केन्द्र व कोठी क्षेत्र के शिवसागर का है। जिन केन्द्रों में गेहूं का उडाव नहीं हो पाया है उसमे शिवराजपुर, पड़रौत, कोटर, अबेर, तिहाई, गोलहटा, मिगरौती, अमरपाटन क्षेत्र के देवरी, जगदीशपुर, सिंहपुर खरीदी केन्द्रों में करोड़ों रुपए का गेहूं नष्ट हो चुका है। इन केन्द्रों में हाल अब यह है कि गेहूं अंकुरित हो रहा है। साथ ही सड़ने के कारण बदबू आने लगी है।

Powered by Blogger.