MP : लव जिहाद/ सतना में रेप पीड़िता की रहस्यमय ढंग से मौत : पूरी कहानी पढ़ उड़ जाएंगे आपके होश ....

मध्य प्रदेश में बने लव जिहाद कानून का आधार बनने वाली पीड़ित की संदिग्ध मौत हो गई। बताया जाता है कि पीड़ित की मौत 4 मई को ही हो चुकी है। सोशल मीडिया में मंगलवार को इसकी खबर आई, तब मामला सामने आया। इसे लेकर विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल कार्यकर्ता थाने भी पहुंचे।

अनलॉक की तैयारी शुरू : दफ्तरों में बढ़ेंगे कर्मचारी, शादी को देखते कुछ दुकानें खोलने की रहेगी अनुमति, शहर में लगी बैरिकेडिंग भी हटेंगी

बता दें, आरोपी सिकंदर उर्फ समीर उर्फ अतीक मंसूरी निवासी अहमद नगर नजीराबाद ने पीड़ित को हिंदू नाम बताकर प्रेमजाल में फंसाया था। कोलगवां पुलिस ने 11 सितंबर 2020 को आरोपी के खिलाफ 376 (2) (आई) (एन) 323, 506 भादवि एवं 5/6 पाॅस्को एक्ट के तहत केस दर्ज किया था। विरोध के बाद आरोपी का फार्म हाउस भी गिरा दिया गया।

17 साल की उम्र में हो गई थी शादी : पति ने पत्नी का अश्लील वीडियो साले को भेजा : फिर हुआ ये ..

जांच में आरोपी के घर से कई नेताओं के लेटर पैड भी मिले थे। यही नहीं, हवाला, ब्याज, अड़ीबाजी, रेल टिकट दलाली, प्लाॅट ब्रिकी के दस्तावेज भी जब्त किए गए थे। साथ ही, भोपाल में घर और बैंक के लॉकर से सीडी, डीवीडी, नकदी, चेक मिले थे। पुलिस ने आरोपी को कोर्ट में पेश कर केंद्रीय जेल भेज दिया था। कुछ दिनों बाद राज्य सरकार ने इसी केस को आधार बना कर लव जिहाद कानून प्रदेश में लागू कर बेटियों के न्याय की बात कही थी।

VHP पदाधिकारी से मिले पीड़िता के पिता

VHP जिला उपाध्यक्ष राजबहादुर मिश्रा ने बताया, मंगलवार को दुष्कर्म पीड़ित के मौत की खबर सोशल मीडिया के माध्यम से मिली। बुधवार को सतना स्थित पीड़ित के घर विहिप और बजरंगदल के पदाधिकारी पहुंचे। यहां पीड़ित के पिता ने बताया कि बेटी 24, 25 अप्रैल को सहेली के साथ दिल्ली गई थी। वह 28, 29 अप्रैल को लौटी थी। यहां उसकी तबीयत खराब दिखी। ऐसे में उसने बाजार से दवा लेकर खा ली। 4 मई की शाम उसे सांस लेने में दिक्कत हुई। ऐसे में वह ऑटो लेने गए, लेकिन जब ऑटो लेकर आए, तो अचानक सांस फूलते ही दम तोड़ दिया।

अंतिम संस्कार के लिए लेकर गए गांव

उन्होंने बताया, बेला चौकी स्थित गांव में ले जाकर पीड़ित का अंतिम संस्कार किया। परिवार 18 मई को वापस सतना आ गया। आसपास के लोगों को बात पता चली, तो विहिप और बजरंगदल समेत मीडिया को भी घटना का पता चला। पदाधिकारियों के मदद के आश्वासन के बाद भी पीड़ित के पिता ने आरोप-प्रत्यारोप नहीं लगाया है। हालांकि उन्होंने इस दौरान न पुलिस और न प्रशासन को सूचना दी।

आरोपी सिकंदर की हुई 24 अप्रैल को जमानत

जानकारी के मुताबिक आरोपी सिकंदर की जमानत 24 अप्रैल को हाईकोर्ट जबलपुर से मिल गई थी। जिसका आदेश केंद्रीय जेल को 25 अप्रैल को मिला। वहीं, कई लोग मामले में आरोपी पर प्रताड़ना का आरोप लगा रहे है। क्योंकि सिकंदर के जेल जाने के बाद पीड़ित ने थाने और एसपी के यहां शिकायत दर्ज कराई थी।

15 साल की नाबालिग के साथ 4 युवकों ने किया गैंगरेप; दो सहेलियां भी लापता, आरोपियों पर 5-5 हजार रुपए का इनाम घोषित : दबाव बना रहे दो BJP नेताओं पर भी केस दर्ज

उसने कहा था, आरोपी का भाई रहीस गवाह बदलने के लिए दबाव बना रहा है। ऐसे में जान माल का खतरा है। हालांकि मामले में पुलिस और प्रशासन के जिम्मेदार कुछ भी बोलने से कतरा कर रहे हैं।

पुलिस छापे में मिले थे नेताओं के लेटर पैड

समीर खान उर्फ सिकंदर के घर पुलिस छापे में कई बड़े नेताओं के लेटर पैड मिले थे। बताया जा रहा है कि यह इन लेटर पैड का इस्तेमाल रेलवे टिकट के लिए करता था। आरोपी के पास से बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय, पूर्व विधायक शंकरलाल तिवारी, सतना विधायक सिद्धार्थ कुशवाहा, सांसद गणेश सिंह, सीधी सांसद रीति पाठक, पूर्व विधायक नीलम अभय और यादववेंद्र सिंह के लेटर पैड मिले थे।

Powered by Blogger.