दिनदहाड़े एंबुलेंस में गर्भवती से गैंगरेप करने वाले दो दरिंदे युवक गिरफ्तार, वारदात के बाद कहा - किसी को नहीं बताओगी तो खाना, एक किलो घी और 500 रुपए देंगे

राजस्थान की राजधानी जयपुर में एक गर्भवती महिला को खाना देने के बहाने दिनदहाड़े एंबुलेंस में गैंगरेप करने वाले दोनों युवकों को पुलिस ने बुधवार देर रात गिरफ्तार किया। वारदात के बाद पीड़ित पुलिस के पास पहुंची। तब उसके पास उस एंबुलेंस का नंबर नहीं था, जिसमें उसके साथ गैंगरेप हुआ। वह एसएमएस अस्पताल की पुलिस चौकी पर पहुंची थी।

उसने वहां खड़ी एक वैन को देख चौकी प्रभारी एएसआई राजेंद्र शर्मा को बताया कि सुरेंद्र और महेंद्र के पास ऐसी ही एंबुलेंस थी। सीट पर लाल रंग की दरी बिछी हुई थी और स्पीकर भी लगे हुए थे।

एंबुलेंस की हुई पहचान

पुलिस पीड़िता को लेकर एसएमएस मेडिकल कॉलेज के सामने पहुंची। वहां एंबुलेंस स्टैंड पर एक-एक गाड़ी को देखना शुरू किया। महिला सुरेंद्र योगी की एंबुलेंस को पहचान गई। वहां आसपास मौजूद अन्य ड्राइवरों से पता चला कि सुरेंद्र कई घंटों से गायब है। तब मोबाइल नंबरों और रजिस्ट्रेशन के आधार पर ड्राइवर सुरेंद्र योगी को नामजद कर तलाश किया।

वारदात में शामिल महेंद्र मीणा उर्फ गोट्या को पुलिस ने बुधवार को धर-दबोचा। इनमें सुरेंद्र योगी कानोता में रहता है। वह भरतपुर जिले के भुसावर का रहने वाला है। दूसरा आरोपी महेंद्र मीणा दौसा जिले में कालाखोह में रहता है। ये दोनों ही जयपुर में एंबुलेंस चलाते हैं।

जयपुर में गर्भवती से रेप मामले में भाजपा हमलावर:पूनिया बोले- सरकार का इकबाल खत्म, न जिंदगियां बचा पा रहे, न बहन-बेटियों की अस्मत; राठौड़ बोले-सरकार को महिलाओं की सुरक्षा से कोई लेना-देना नहीं

24 मई की वारदात

डीसीपी अभिजीत सिंह के अनुसार, 22 वर्षीया गर्भवती महिला अपने पति के साथ एसएमएस अस्पताल के बाहर फुटपाथ पर रहती है। वह 24 मई को सुबह 11 बजे खाना लेने के लिए निकली थी। तब सुरेंद्र योगी उसे खाना खिलाने के बहाने अपने साथ एंबुलेंस में ले गया। रास्ते में त्रिमूर्ति सर्किल के पास सुरेंद्र ने अपने दोस्त महेंद्र मीणा को भी बैठा लिया।

इसके बाद गांधी सर्किल से झालाना जाने वाली रोड पर दोनों युवकों ने एंबुलेंस में ही महिला से बारी-बारी से दुष्कर्म किया। इसके बाद उसे वापस एमएमएस अस्पताल लाकर छोड़ दिया और वहां से फरार हो गए।

चुप रहने के लिए लालच दिया

वारदात के बाद महेंद्र और सुरेंद्र ने महिला को चुप रहने के लिए मदद करने का झांसा दिया। आरोपियों ने कहा कि दुष्कर्म की बात किसी को नहीं बताओगी तो तुम्हें खाना, एक किलो देसी घी और 500 रुपए नकद देंगे। महिला लालच में नहीं आई। वह सीधे पुलिस चौकी पहुंची और एएसआई राजेंद्र को आपबीती बताई।

तब मामला उच्चाधिकारियों तक पहुंचा। गैंगरेप और एसटी-एससी एक्ट में केस दर्ज कर अनुसंधान गांधी नगर एसीपी राजवीर सिंह चौधरी को सौंपा गया।

खाने के बहाने एंबुलेंस में लेकर गए दरिंदे

22 साल की महिला सुबह खाने की तलाश में निकली थी। महिला पति के साथ एसएमएस अस्पताल के सामने फुटपाथ पर खानाबदोश रहती है। उसे सुरेंद्र योगी मिला और खाना खिलाने के बहाने एंबुलेंस में बैठा कर ले गया। उसकी नियत खराब हो गई। दोस्त महेंद्र को भी एंबुलेंस में बुलाकर बैठा लिया। लॉकडाउन से सड़क सूनी थी। दोनों ने एंबुलेंस में ही महिला से गैंगरेप किया। इसके बाद दोनों उसे फुटपाथ पर ही छोड़कर भाग गए।

Powered by Blogger.