CORONA VACCINE : घरेलू विवाद व छुट्टी न मिलने पर आठ करोड़ की को-वैक्सीन छोड़कर भागा था वाहन चालक



नरसिंहपुर। करेली में वैक्सीन कंटेनर छोड़कर भागे चालक का अब भी पता नहीं चला है। चालक वैक्सीन का कंटेनर छोड़कर ग्वालियर गया था। यहां किसी दोस्त को उसने मिलने के लिए कहा और बताया था कि उसे हरियाणा जाना है। शनिवार को विकास ने अपने पिता से भी किसी परिचित के मोबाइल से फोन किया था। लेकिन अब तक यह पता नहीं चल सका है कि वह कहां गया। पुलिस का कहना है कि घर में हुए विवाद और छुट्टी न मिलने के कारण वह कंटेनर को छोड़कर लापता हुआ था।

ट्रांसपोर्ट कंपनी भी कर रही थी ट्रैक : जिले के करेली में शुक्रवार को नए बस स्टैंड के पास भारत बायोटेक की को-वैक्सीन से भरा एक कंटेनर क्रमांक टीनए 06 क्यू 6482 लावारिस हालत में मिला था। जांच में पता चला कि कंटेनर हैदराबाद से करीब आठ करोड़ मूल्य की को-वैक्सीन लेकर हरियाणा के करनाल जाने निकला था। गुरुग्राम की टीसीआइ फ्राइट ट्रांसपोर्ट कंपनी भी ट्रक की जीपीएस से ट्रैकिंग कर रही थी। लोकेशन नहीं बदलने और उप्र के अमेठी जिले के ग्राम कटारी, थाना जामो निवासी चालक विकास (22) पुत्र परमानंद मिश्रा से संपर्क नहीं होने से कर्मचारी भी सक्रिय थे। करेली पुलिस ने जब ट्रांसपोर्टर सूरजकुमार से बात की तो हैदराबाद से आ रहे कंपनी के ही एक अन्य ट्रक से दूसरे चालक दयानंद मौरिया को करेली भेजा गया। वह शुक्रवार की रात करीब आठ बजे कंटेनर लेकर करनाल जाने रवाना हो गया। कंटेनर करीब 12 घंटे यहां खड़ा रहा। हालांकि कंटेनर का एयर कंडीशनर चालू होने से वैक्सीन के खराब होने की आशंका नहीं थी।

कंटेनर चालक करेली से ग्वालियर पहुंचा था। प्रथम दृष्टया चालक घरेलू विवाद के कारण परेशान था। उसने शनिवार को किसी और के नंबर से अपने स्वजनों से बात की थी। उस ट्रांसपोर्ट कंपनी से भेजे गए चालक कंटेनर को लेकर करनाल रवाना हो गया है। कंटेनर में जो को-वैक्सीन थी, वह करीब 8 करोड़ मूल्य की थी और ढाई लाख से ज्यादा डोज अनुमानित है। 

-विपुल श्रीवास्तव, पुलिस अधीक्षक नरसिंहपुर।

Powered by Blogger.