MP : जबलपुर के नेताजी सुभाष चंद्र बोस मेडिकल कॉलेज चिकित्सालय में ऐसा कोविड वार्ड जो खुद बनाएगा ऑक्सीजन, बचाएगा मरीजों की जान


जबलपुर। नेताजी सुभाष चंद्र बोस मेडिकल कॉलेज चिकित्सालय में ऐसा कोविड-19 वार्ड तैयार किया जा रहा है जिसे एक जगह से दूसरी जगह पर स्थानांतरित किया जा सकेगा। इनफ्लैटेबल स्ट्रक्चर मैटेरियल का उपयोग कर बनाए जा रहे इस वार्ड की लागत 89 लाख 65 हजार रुपए है। बिजली और पानी की सुविधा होने पर इस वार्ड को चंद दिनों में कहीं भी तैयार किया जा सकेगा।

खास बात यह है कि इस वार्ड में भर्ती मरीजों के लिए ऑक्सीजन हेतु परेशान नहीं होना पड़ेगा। ऑक्सीजन की एयर सेपरेशन यूनिट की सुविधा इसमें शामिल है प्रयोग के तौर पर समूचे प्रदेश में ऐसा पहला वार्ड मेडिकल कॉलेज में तैयार किया जा रहा है जहां आगामी तीन-चार दिनों में कोरोना के मरीज भर्ती किए जा सकेंगे। 20 बिस्तरीय वार्ड में मरीज की प्रत्येक सुविधा का ध्यान रखा गया है। ऑक्सीजन, हाईफ्लो ऑक्सीजन, वेंटिलेटर समेत तमाम सुविधा मरीज को दी जा सकेगी। पूरी तरह से वातानुकूलित वार्ड में पीटी, पीआरओ, ऑक्सीमैक्स, ऑक्सीजन और सक्शन लाइन के साथ साइड लाकर, ड्रिप सेट और हाई कार्डिक टेबल दिया गया है। 3 सीटर टॉयलेट और दो वॉशरूम भी इस आधुनिक तरह के कोविड-19 वार्ड में मरीजों की सुविधा के लिए उपलब्ध रहेंगे।

पहुँचविहीन इलाकों में मिलेगी राहत: नेताजी सुभाष चंद्र बोस मेडिकल कॉलेज अस्पताल के डीन डॉ प्रदीप कसार ने बताया कि आधुनिक वार्ड में कोरोना के गंभीर से गंभीर मरीजों को भी भर्ती किया जा सकेगा। खास बात यह है कि आवश्यक होने पर इस वार्ड को एक जगह से दूसरी जगह स्थानांतरित भी किया जा सकेगा। उदाहरण के लिए यदि किसी ग्रामीण अंचल में कोरोना महामारी का खतरा बढ़ता है, तो वहां 2-3 दिन के भीतर इस आधुनिक वार्ड को तैयार किया जा सकेगा। मेडिकल के स्कूल ऑफ एक्सीलेंस इन पलमोनरी मेडिसिन भवन के पार्किंग में वार्ड का निर्माण कार्य प्रारंभ कर दिया गया है।


Powered by Blogger.