MP : सेहतमंद शरीर की पहचान है हंसी, हास्य योग से शरीरिक और मानसिक तनाव होते है दूर

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें


भोपाल। हाल ही में हास्‍य दिवस गुजरा है। इस उपलक्ष्‍य में आदर्श योग आध्यात्मिक केंद्र में एक विशेष कार्यक्रम के आयोजन के जरिए साधकों को हास्य योग के महत्व से अवगत कराया गया। योग गुरु महेश अग्रवाल ने कहा कि हंसने से व्‍यक्ति का तनाव कम होता है, आत्मविश्वास बढ़ता है| दुःख कम करने का सबसे अच्छा इलाज है दूसरों को खुश करना हास्य योग आपके शारीरिक और मानसिक दोनों रूपों को सुदृढ़ बनाता है|

योग गुरु ने कहा कि मानव ही एकमात्र ऐसा प्राणी है, जिसमें उन्‍मुक्‍त ढंग से हंसने की क्षमता होती है। यह उसका स्वभाव भी है तथा उसके खुशी की अभिव्यक्ति का माध्यम भी। किसी बात पर मुस्कुराना अथवा हंसना, किसी को देखकर हंसना, कुछ व्यंग्य सुनकर हंसना, कुछ पढ़कर हंसना, किसी को हंसते हुए देखकर हंसना, किसी से मुस्कुराते हुए मिलना, खुशी के प्रसंगों पर मुस्कुराना मानव व्यवहार की सहज क्रियाएं हैं। वास्तव में यह स्वास्थ्यवर्धक टॉनिक है। मुस्कान हंसी में बदल जाती है तो स्वास्थ्यवर्धक औषधि का कार्य करने लगती है। हंसना स्वस्थ शरीर की पहचान है, जो मानसिक प्रसन्नता के लिए आवश्यक है।

तनाव को दूर कर ऑक्सीजन का संचार करता है हास्य

योग गुरु ने कहा कि नियमित हंसने से शरीर के सभी अवयव ताकतवर और पुष्ट होते हैं। हास्य तनाव का विरेचन है। सच्चा हास्य तोप के गोले की तरह छूटता है और मायूसी की चट्टान को बिखेर देता है। हास्य से रोम-रोम पुलकित होता है, दु:खों का विस्मरण होता है, खून में नई चेतना आती है। शरीर के कुछ भाग हास्य ग्रंथियों के प्रति विशेष संवेदनशील होते हैं। हंसी मानसिक रोगों के उपचार का प्रभावशाली माध्यम होती है। खुलकर हंसने से रक्त की गति बढ़ जाती है एवं रक्त परिभ्रमण में आने वाले अवरोधक तत्व दूर होने लगते हैं। इससे श्वसन क्रिया भी सुधरती है। ऑक्सीजन का संचार अधिक मात्रा में होने लगता है, और दूषित वायु का पूर्ण निष्कासन होता है। शरीर के अधिकांश चेतना केन्द्र जागृत होने लगते हैं। अधिक हंसने वाले बच्चे फुर्तीले एवं अपेक्षाकृत अधिक शक्तिशाली होते हैं।

योग गुरु ने कहा कि हास्य योग एक आसान और सरल सा आसन है, लेकिन अनेक शारीरिक और मानसिक विकारो को दूर करने में सहायक है| इसलिए बिना संकोच किये खूब हंसिए और दुसरो को भी हंसाइए| हंसते, मुस्कुराते रहना ही सफल ज़िंदगी की असली पहचान है| इस मौके पर उपस्थितजन को हास्य योग भी कराया गया।

Powered by Blogger.