MP : दमोह उप-चुनाव / 7 बार के विधायक रह चुके जयंत मलैया को BJP ने जारी किया नोटिस : बेटे सिद्धार्थ समेत 5 मंडल अध्यक्षों को पार्टी ने दिखाया बाहर का रास्ता

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

भोपाल/ मध्य प्रदेश में हुए दमोह उप-चुनाव के नतीजे जामने आने के बाद मध्य प्रदेश भाजपा अब एक्शन मोड में आ गई है। पार्टी की ओर से भितरघात के आरोपों पर कार्रवाई करते हुए दमोह से 7 बार के विधायक रह चुके और पूर्व वित्त मंत्री जयंत मलैया को नोटिस जारी कर दिया है। वहीं, मलैया के बेटे सिद्धार्थ मलैया समेत भाजपा के 5 मंडल अध्यक्षों को पार्टी से बाहर कर दिया है।

5 दिन बाद एक्शन

आपको बता दें कि, दमोह उप-चुनाव में भाजपा को मिली हार के बाद बीजेपी उम्मीदवार राहुल लोधी ने जयंत मलैया पर भितरघात का आरोप लगाया था। लोधी ने मीडिया के समक्ष जयंत मंलैया और उनके पुत्र सिद्धार्थ समेत पार्टी के कई अन्य पदाधिकारियों पर भितरघात का आरोप लगाया था। इस पर मलैया ने जवाब देते हुए कहा था कि, वो अपना पक्ष पार्टी फोरम के सामने रखेंगे। हालांकि, अब उनके खिलाफ हुई इस कारर्वाई को भितरघात की पुष्टि पर आधारित कार्रवाई कहा गया है।

प्रदेश अध्यक्ष ने की कार्रवाई

भाजपा मीडिया प्रभारी लोकेंद्र पाराशर के मुताबिक, दमोह विधानसभा उपचुनाव के दौरान पार्टी विरोधी गतिविधियों में भाग लेने के चलते पार्टी की ओर से दमोह जिले के पांच मंडल अध्यक्षों और प्रशिक्षण प्रकोष्ठ के जिला संयोजक सिद्धार्थ मलैया को पार्टी की प्राथमिक तौर पर निलंबित कर दिया गया है। ये कारर्वाई पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा के निर्देश पर गई कार्रवाई के साथ-साथ पूर्व विधायक जयंत मलैया को भी उपचुनाव के दौरान पार्टी विरोधी गतिविधियों में लिप्त होने पर नोटिस जारी किया गया है।

ये मंडल अध्यक्ष पद से निष्कासित

जिन पांच मंडल अध्यक्षों को पार्टी से निष्कासित किया गया है, उनमें अभाना मंडल अजय सिंह, दीनदयाल नगर मंडल संतोष रोहित, दमयंती मंडल मनीष तिवारी, बांदकपुर मंडल अभिलाष हजारी और बॉसा मंडल देवेंद्र सिंह राजपूत शामिल हैं।

17 हजार से अधिक वोटों से हुई थी मात

आपको बता दें कि, कांग्रेस की ओर से मैदान में उतारे गए अजय टंडन ने बीजेपी के राहुल लोधी को 17 हजार से अधिक वोटों से मात दी है। जबकि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा समेत कई मंत्रियों ने इस उप-चुनाव को जीतने के लिए अपनी साख और पूरी ताकत झोंक दी थी।

Powered by Blogger.