INDORE UNLOCK : आज से खुलेगा शहर, दुकानें शाम 6 बजे तक खुलेंगी : धर्मस्थल, सभी बाजार भी खुले, शादियों की मंजूरी

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

8 अप्रैल से बंद बाजार 64 दिन बाद शनिवार से प्रतिबंधों से मुक्त हो रहे हैं। आपदा प्रबंधन समूह की बैठक के बाद शुक्रवार रात कलेक्टर मनीष सिंह ने कुछ गतिविधियों को छोड़ बाकी बाजार सप्ताह में छह दिन सोमवार से शनिवार तक शाम 6 बजे तक संचालित करने का आदेश जारी कर दिया। हालांकि रविवार को जनता कर्फ्यू रहेगा। नाइट कर्फ्यू रात 11 से सुबह 6 बजे तक होगा। मंत्री तुलसी सिलावट व सांसद शंकर लालवानी ने कहा कि सात दिन पॉजिटिव दर पर नजर रहेगी, यदि बढ़ोतरी हुई तो आपदा समूह समीक्षा कर निर्णय लेगा।

निजी ऑफिस - 50 फीसदी स्टाफ की मौजूदगी में संचालित कर सकेंगे

धर्मस्थल - एक समय में चार से ज्यादा लोगों की अनुमति नहीं

विवाह - दोनों पक्षों के अधिकतम 20 लोग रह सकेंगे

होटल/रेस्त्रां - केवल टेक अवे व होम डिलीवरी की अनुमति, सभी नो ईटिंग झोन रहेंगे

जिम/वॉक - 50% क्षमता से खुल सकेंगे। सुबह-शाम की सैर, साइकिलिंग होगी

खानपान - 56 दुकान सहित चाय, पोहे के ठीये खुलेंगे, सिर्फ टेक अवे

​​​​​​​मॉल - शॉपिंग मॉल खुलेंगे प्ले जोन, फूड जोन, सिनेमा बंद रहेंगे

इन गतिविधियों की अभी भी इजाजत नहीं

सभी राजनीतिक, धार्मिक, खेल, विरोध प्रदर्शन, जिनमें भीड़ एकत्रित होती है।

स्कूल, कॉलेज, कोचिंग से ऑनलाइन क्लास। इनके ऑफिस खुल सकेंगे।

सिनेमाघर, मल्टिप्लेक्स, वाटर पार्क, स्विमिंग पूल पूरी तरह बंद रहेंगे।

होटल, रेस्त्रां में बैठकर खाने की अनुमति अभी भी नहीं है।

56 दुकान के 100 मीटर दायरे में कुछ खाते मिले तो लगेगा 500 का जुर्माना

चोइथराम फल, सब्जी व फूल मंडी निरंजनपुर मंडी शुरू, चोथराम मंडी के बाहर ठेले से विक्रय नहीं कर सकेंगे।

होटल, रेस्त्रां शाम 6 बजे बाद शटर बंद कर रात 10.30 बजे तक होम डिलेवरी-टेक अवे की सुविधा दे सकेंगे।

चाय-पोहे, चाट ठेले नो इटिंग जोन रहेंगे, केवल टेक अवे होगा। 56 दुकान के 100 मीटर के दायरे में खाते मिले तो 500 रु. अर्थदंड।

स्थाई दुकान व ठेलों से फल-सब्जी बिकेंगे, हाट बाजार बंद रहेंगे।

सभी सैलून 50% क्षमता के साथ खुलेंगे। वेटिंग प्रतिबंधित। होटल क्लब आदि के स्पा सेंटर बंद रहेंगे।

संगठनों को नो वैक्सीन नो एंट्री की इजाजत

भीड़ वाली जगहों में रेंडम सैंपलिंग होगी। सहयोग नहीं करने पर वैधानिक कार्रवाई, संस्थान सील होगा।

सभी रहवासी संघ, मल्टी, बाजार संगठन, कार्यालय बिना वैक्सीन सर्टिफिकेट दिखाए लोगों की एंट्री बंद कर सकते हैं।

किसी संस्थान में कोई पॉजिटिव पाया गया तो उसे 7 दिन सील करेंगे।

व्यापारियों का सब्र जवाब देने लगा था...

प्रदेश के सभी जिले खोलने के बाद भी इंदौर में पाबंदियां रहने से लोगों का धैर्य जवाब देने लगा था। शुक्रवार को एमटीएच सहित कई बाजारों में दुकानें खुल गई थीं।

खुश खबर... 114 दिन बाद 100 से कम मरीज

उधर, शुक्रवार को शहर में कोरोना के 96 नए मरीज सामने आए, जबकि 2 की मौत हो गई। 100 से कम आंकड़ा 114 दिन बाद आया है। इससे पहले 17 फरवरी को 95 मरीज सामने आए थे। शहर में एक्टिव केस 742 रह गए हैं।

याद रहे, बाजार खुला है, कोरोना नहीं गया

कोरोना की पहली लहर में 71 व दूसरी में 64 दिन का लॉकडाउन झेल चुके हैं। कोरोना ने इतने घाव दिए हैं कि उन्हें भरने में सदियां लग जाएंगी। न किसी ने इस तरह की बेनूर शादियों की कल्पना की थी और न कभी घर से किसी की ऐसी विदाई के बारे में सोचा होगा। कई लोग अपनों को कांधा तक नहीं दे पाए। कितने लोगों की नौकरियां गईं, कितना नुकसान हुआ, इसका हिसाब बहुत लंबा है।

इनके बीच हम आज एक निर्णायक मोड़ पर खड़े हैं। पीछे भयावह मंजर है और आगे ढेर सारी चुनौतियां। आज ही फैसला लेना होगा कि हम वक्त की कसौटियों पर खरे उतरेंगे या फिर वही गलतियां दोहराएंगे। बाजार खुलने का मतलब कोरोना की विदाई नहीं है।

मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग और वैक्सीनेशन ही मूल मंत्र है, जो हमें फिर वही दिन देखने से रोक सकता है। जिम्मेदारों को भी अपनी भूमिका निभाना होगी। अस्पतालों के इंतजाम आगे भी यूं बौने न साबित हों, ताकि इंदौर अपना सुरक्षा घेरा इतना कड़ा कर पाए कि चाहे कितनी भी लहर आ जाए, हमारा बाल भी बांका न हो।

Powered by Blogger.