REWA : प्रदेशभर में सबसे अधिक रीवा में रक्तदान, शिविर में युवाओं ने बढ-चढकर लिया हिस्सा : कलेक्टर ने खुद रक्तदान कर बढ़ाया रक्तवीरों का हौसला

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

रीवा. कृष्णा राजकपूर आडिटोरियम में शनिवार को रक्तदान शिविर आयोजित किया गया। शिविर में युवाओं ने बढ-चढकर हिस्सा लिया। कलेक्टर डॉ इलैयाराजा टी, शिशुरोग विभागाध्यक्ष डॉ नरेश बजाज समेत 218 ने रक्तदान किया। जिसमें 184 पुरूष व 34 महिलाओं ने रक्तदान किया। यह आंकडा प्रदेश में सबसे अधिक रेकार्ड किया है। कलेक्टर ने बताया कि प्रदेश के 52 जिले में रक्तदान शिविर आयोजित किया गया। जिसमें रीवा में सबसे अधिक रक्तदान हुआ है।

रक्तदान महादानों में एक

शिविर का शुभारंभ जिला एवं सत्र न्यायाधीश अरूण कुमार सिंह तथा रीवा संभाग के कमिश्नर अनिल सुचारी ने किया। इस अवसर पर जिला एवं सत्र न्यायाधीश सिंह ने कहा कि रक्तदान जीवन के महादानों में से एक है। जब हम किसी को रक्तदान करते हैं तब हम वास्तव में किसी व्यक्ति को जीवनदान दे रहे होते हैं। रक्तदान डरने की आवश्यकता नहीं है। प्रत्येक स्वस्थ्य व्यक्ति रक्तदान कर सकता है। रीवा जागरूक व्यक्तियों और विद्धानों का क्षेत्र है यहां ऊर्जा की कमी नहीं है। इस ऊर्जा केवल को सही दिशा देने की आवश्यकता है। यहां के लोगों ने परोपकार और सेवा के लिए बढ़-चढ़कर सहयोग किया है। श्री सिंह ने रक्तदान शिविर को सफल बनाने में प्रशासन, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, मेडिकल टीम तथा समाजसेवियों एवं रक्तदाताओं के प्रति आभार व्यक्त किया।


कमिश्नर बोले किसी के जीवन रक्षा पुण्य का काम

समारोह में कमिश्नर अनिल सुचारी ने कहा कि यह शिविर लोगों को स्वैच्छिक रक्तदान के लिए प्रेरित करेगा। रक्तदान जीवनदान है इससे मन को असीन संतोष और किसी के जीवन रक्षा का पुण्य लाभ होता है। समारोह में डीआईजी अनिल सिंह कुशवाह ने कहा कि रक्तदान पुनीत कार्य है। रक्तदाता के खून से प्लाजमा, प्लेटलेट्स तथा खून तीन तरह से उपयोग होता है। हमारा छोटा सा त्याग किसी व्यक्ति को जीवन देता है। अगले महीने के रक्तदान शिविर में पुलिस विभाग के अधिकारी व कर्मचारी रक्तदान करेंगे।

एक हजार यूनिट भंडारण की जगह

कार्यक्रम में कलेक्टर डॉ. इलैयाराजा टी ने कहा कि रक्तदान का महत्व हमें तब पता चलता है किसी अपने को रक्त की जरूरत होती है। रीवा में जिला अस्पताल तथा संजय गांधी हास्पिटल में एक हजार यूनिट रक्त भण्डारण की क्षमता है लेकिन इनमें बहुत कम खून भंडारित है। लोगों को जरूरत में खून मिल सके इसके लिए समाज को आगे आना होगा। रक्तदान करने वालों को हम समुचित सम्मान के साथ-साथ ब्लड पासबुक सम्मान पत्र देंगे। रीवा में कोविड संकटकाल में तथा रक्तदान शिविर में समाजसेवियों ने सराहनीय सहभागिता दिखाई है।

सभी वर्ग को आगे आना चाहिए

समारोह में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव विपिन कुमार लवानिया ने अतिथियों का स्वागत किया तथा कहा कि रक्तदान के लिए समाज के सभी वर्गों को आगे आना चाहिए। समारोह में जिला रेडक्रास समिति के अध्यक्ष डॉ. सज्जन सिंह, पुलिस अधीक्षक राकेश कुमार सिंह, सचिव रेडक्रास समिति डॉ. विनोद श्रीवास्तव, समाजसेवी परमजीत सिंह डंक, पेंटियम कालेज के डॉ. बीएन त्रिपाठी तथा विधिक सहायता अधिकारी अभय कुमार मिश्रा ने भी अपने विचार व्यक्त किये।

रक्तदानदाताओं का किया गया सम्मान

समारोह में अतिथियों, समाजसेवियों, प्रशासनिक अधिकारियों तथा रक्तदाताओं को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। समारोह में विशेष न्यायाधीश श्री उमेश पांडव, न्यायाधीश सुधीर सिंह राठौर, न्यायाधीश गिरीश दीक्षित, न्यायाधीश मुकेश यादव, अन्य न्यायाधीशगण, एडीएम श्रीमती इला तिवारी, डॉ. नरेश बजाज, डॉ. ज्योति सिंह, समाजसेवी सुजीत द्विवेदी, डॉ. प्रभाकर चतुर्वेदी तथा बड़ी संख्या में समाजसेवी एवं रक्तदाता उपस्थित रहे।

Powered by Blogger.